विश्व हेपेटाइटिस दिवस: संजीवनी इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल संस्थान में चलाया गया जागरूकता अभियान

छपरा

संजीवनी नर्सिंग होम एवं मेटरनिटी सेंटर में नवजात शिशुओं को दिया गया निशुल्क हेपेटाइटिस-बी का टीका

छपरा:विश्व हेपेटाइटिस दिवस पर जागरूकता अभियान चलाया गया। शहर के श्यामचक स्थिति संजीवनी इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल संस्थान में शुक्रवार को कार्यक्रम आयोजित कर पैरामेडिकल के छात्रों के बीच जागरूकता अभियान चलाया गया। इसके पूर्व कार्यक्रम का उद्धघाटन शहर के प्रसिद्ध चिकित्सक डा अनिल कुमार, डा विशाल कुमार ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डा अनिल कुमार ने बताया कि कि हेपेटाइटिस का अर्थ लीवर में सूजन है। अगर लीवर में सूजन या लीवर डैमेज होता है तो उसके काम करने को क्षमता प्रभावित होती है।

इस बीमारी के सबसे आम लक्षणों में त्वचा या आंखों की सफेद हिस्से का पीला पड़ जाना, बुखार आना, पेट मे दर्द, गहरे रंग का पेशाब आना, अत्यधिक थकान, भूख की कमी, जी मिचलाना और उल्टी का आना शामिल हैं। इन लक्षणों को कभी भी अनदेखा नहीं किया जाना चाहिए तथा लक्षण दिखने पर नजदीकी नागरिक अस्पताल में डाक्टर को जरूर दिखाएं। हेपेटाइटिस के वायरस पांच प्रकार के होते हैं, हैपेटाइटिस ए, बी, सी, डी व ई।

हेपेटाइटिस ए व ई विषाणु जनित रोग हैं तथा इनका वायरस दूषित पानी व दूषित खाने से फैलता है। हेपेटाइटिस बी (काला पीलिया) का वायरस संक्रामक रक्त, वीर्य और शरीर के अम्ल तरल पदार्थों के संपर्क में आने से फैलता है। इसके अलावा यह वायरस संक्रमित सीरिजों के पुन उपयोग से, संक्रमित मां से बच्चों में व असुरक्षित यौन संबंधों से भी फैलता है। हेपेटाइटिस सी (काला पीलिया) का वायरस संक्रमित रक्त, संक्रमित रक्त उत्पाद, दूषित सूई, संक्रमित रेजर व टूथब्रश, असुरक्षित यौन संबंध अथवा संक्रमित चिकित्सीय उत्पादों से होता है। हेपेटाइटिस बी व सी के अंतिम चरण में सिरोसिस और लीवर कैंसर हो सकता है। वही डा विशाल कुमार ने कहा कि व्यक्ति साफ-सुथरा भोजन व पानी ग्रहण करें।

किसी दूसरे व्यक्ति द्वारा इस्तेमाल की गई रेजर, सुई, टूथब्रश आदि इस्तेमाल ना करें, असुरक्षित यौन संबंधों से बचें, संक्रमित रक्त का प्रयोग ना करें, बच्चों का टीकाकरण समय पर कराएं। इस मौके पर संजीवनी नर्सिंग होम एवं मेटरनिटी सेंटर में जन्में नवजात शिशुओं को निशुल्क हेपेटाइटिस-बी का टीका लगाया गया। और और दूसरे जगह से भी आए नवजात शिशुओं को हेपेटाइटिस-बी का टीका लगाया गया। इस मौके पर डा अनिल कुमार, डा विशाल कुमार चिंटू कुमार, धनंजय कुमार, रोमा कुमारी, शाहाना खातून, सोनी कुमारी, रौशनी कुमारी, अर्चना कुमारी, चंदा कुमार, प्रिया कुमारी, अमृता कुमारी, मौजूद थे।