सारण में सड़क निर्माण को लेकर दो गांवों के बीच हिंसक झड़प

छपरा

छपरा। जिले के एकमा प्रखंड के माने व मांझी प्रखंड के जैतपुर पंचायत के माफी गांव के लोगों के बीच सड़क निर्माण कार्य को लेकर तना-तनी की स्थिति उत्पन्न हो गई. देखते ही देखते दोनों गांव के लोगों के बीच हिंसक झड़प की स्थिति उत्पन्न हो गई. जानकारी पाकर मौके पर एकमा के अंचलाधिकारी राहुल शंकर सहित एकमा थाने की पुलिस मौके पर पहुंची. दोनों गांव के लोगों के बीच उत्पन्न आक्रोश को देखते हुए पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने अपने परिपक्व सूझबूझ का परिचय देते हुए दोनों गांव के लोगों को समझा-बुझा कर मामले को शांत कराया गया. साथ ही अगले आदेश तक ठेकेदार द्वारा कराए जा रहे सड़क निर्माण कार्य को रोक दिया गया. वहीं सीओ राहुल शंकर के द्वारा क्षेत्रीय राजस्व कर्मचारी को सड़क निर्माण से संबंधित भूमि की सर्वे रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए निर्देशित किया गया. लगभग तीन से चार घंटे तक ग्रामीणों को समझाने-बुझाने के दौरान कड़ी मशक्कत के बाद मामले को शांत कराया जा सका.

बताया गया कि समय रहते अगर प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों के द्वारा मौके पर पहुंचकर मामले को शांत नहीं कराया जाता तो इसकी प्रबल संभावना थी कि दोनों तरफ से हिंसक वारदात पर उतारू ग्रामीणों द्वारा किसी अनहोनी की घटना को अंजाम दे दिया जाता.

एकमा सीओ राहुल शंकर ने बताया कि मांझी प्रखंड के जैतपुर पंचायत के माफी गांव के लोगों के द्वारा माफ़ी गांव से होकर छठ घाट व मंदिर होते हुए एकमा प्रखंड के माने गांव होते हुए संपर्क सड़क का एक ठेकेदार के माध्यम से निर्माण कार्य शुरू कराया गया है. इस संपर्क सड़क के निर्माण में माने गांव के किसानों के द्वारा अपनी निजी कृषि योग्य भूमि को देने से इनकार किया जा रहा है.

हालांकि कुछ स्थानों पर कुछ कथित किसानों मानवता के आधार पर सड़क निर्माण हेतु भूमि देने की बात कही है. वहीं स्थायी सड़क निर्माण कार्य का अधिकांश किसानों द्वारा विरोध किया जा रहा है. ऐसे में सीओ राहुल शंकर बताते हैं कि बिना भूमि को अधिग्रहित किए सड़क निर्माण को पूरा कराया जाना संभव नहीं है‌.

वहीं माने गांव के लोगों द्वारा संपर्क सड़क को किसी दूसरे तरफ से निर्माण कराए जाने के लिए कहा जा रहा है. इसलिए सड़क निर्माण कार्य के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया हेतु राजस्व कर्मचारी को क्षेत्र का सर्वे रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए निर्देशित किया गया है.

बताया गया है कि माने गांव होकर माफी गांव तक संपर्क सड़क निर्माण की दूरी लगभग 3 किलोमीटर होगी. जबकि किसी दूसरे तरफ से इस गांव को मुख्य सड़क से जोड़ा जाए, तो इसकी दूरी कम हो सकती है और विवाद की स्थिति भी उत्पन्न नहीं होगी.

बताते चलें कि एकमा व मांझी प्रखंड की सीमा पर स्थित मांझी प्रखंड के जैतपुर पंचायत के माफी गांव के लोगों में आज तक संपर्क सड़क निर्माण नहीं होने के कारण आक्रोश व्याप्त है.
इसी के चलते बीते सप्ताह अपनी आवागमन हेतु सड़क की समस्या को लेकर माफ़ी गांव के लोगों के द्वारा जिलाधिकारी कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन कर नाराजगी जताई गई थी. अपनी मांगों को लेकर सैकड़ों की संख्या में महिला-पुरुष बीते शनिवार को डीएम कार्यालय पहुंचे थे। गांव में सड़क निर्माण कार्य नहीं होने से वे नाराजगी प्रकट कर बताए थे कि सड़क निर्माण नहीं होने व बरसात के दिनों में ग्रामीणों को होने वाली काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

गांव में जाने वाली सड़क का अब तक निर्माण नहीं होने से नाराज ग्रामीण सैकड़ों की संख्या में सारण के जिलाधिकारी कार्यालय के समक्ष नाराजगी प्रकट कर अपनी इस समस्या को लेकर आवेदन भी सम्बंधित अधिकारियों को दे चुके हैं. लेकिन अब तक सड़क निर्माण नहीं होने के कारण फिर से जिलाधिकारी के पास आवेदन लेकर सैकड़ों महिला-पुरुष पहुंचे थे. हालांकि डीएम की अनुपस्थिति में एडीएम से ग्रामीणों ने मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा था. जिसके बाद इस समस्या के सामाधान हेतु शीघ्र कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया गया था.

माफी गांव के लोगों का कहना है कि बरसात के मौसम में लोगों को होने वाली मुसीबत को सोच कर अभी से ही वे काफी परेशान हैं‌. क्योंकि आने-जाने के रास्ते नहीं होने की वजह से लोगों की तबियत भी खराब होती है, तो उसे खाट पर लाद कर ही अस्पताल ले जाना पड़ता है.