धरती पर उपग्रहों को वापस क्यों नहीं लाया जा सकता? ईंधन खत्‍म होने के बाद क्या करती हैं एजेंसियां ?

करियर – शिक्षा

विज्ञान डेस्क। हम सबने उपग्रहों का लॉन्चिंग देखा है। सब उपग्रह भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो (ISRO) या अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) द्वारा बनाए जाते हैं। लेकिन क्‍या आपने कभी सुना है कि ये उपग्रह वापस लाए गए हैं? यह आम तौर पर नहीं होता। लेकिन कारण? जब स्‍पेसक्रॉफ्ट लाया जा सकता है तो फिर इन्हें क्‍यों नहीं लाया जाना चाहिए? साथ ही, एक और सवाल उठता है: जब उनका ईंधन खत्म हो जाता है, तो वे धरती पर क्यों नहीं आते? काम समाप्त होने पर एजेंसियां क्या करती हैं? इन दिलचस्प सवालों के जवाब NASA ने दिए हैं।

उपग्रह, हर दूसरी मशीन की तरह, हमेशा के लिए नहीं चलते। चाहे उनका काम मौसम की जानकारी देना हो, वायुमंडल में ग्रीनहाउस गैसों को मापना हो या पृथ्वी से दूर तारों का अध्ययन करना हो। जैसे पुरानी वाशिंग मशीनों और वैक्यूम क्लीनर, सभी उपग्रह पुराने, खराब और नष्ट हो जाते हैं।

नासा ने कहा कि पुराने उपग्रहों में दो चीजें हो सकती हैं। साइंटिस्‍ट धरती के सबसे करीब उपग्रहों की गति को धीमा करते हैं अगर उनका काम खत्म हो गया है और उनमें ईंधन भी खत्म हो गया है। ताकि यह कक्षा से बाहर निकलकर जमीन पर गिरे। जब यह वायुमंडल में आता है, इसकी गति इतनी तेज हो जाती है कि यह जलकर नष्‍ट हो जाता है।

यदि उपग्रह धरती की बाहरी कक्षा में है, यानी उसे धरती के वायुमंडल में लाना इतना आसान नहीं है, तो उसे पृथ्वी से और भी दूर भेजा जाता है। ताकि वह धरती की कक्षा छोड़ दे। ऐसे उपग्रह हमेशा अंतरिक्ष में रहते हैं। इन्हें फिर कभी तलाशा नहीं जा सकता। क्योंकि इनसे संपर्क करना असंभव है पृथ्वी पर वापस भेजने की तुलना में दूर अंतरिक्ष में उपग्रहों को विस्फोट करने में अधिक ईंधन खर्च होता है।