बिहार विधानसभा की कार्यवाही शुरू होने के तुरंत बाद स्पीकर ने सदन को स्थगित कर दिया..।

बिहार विधानसभा की कार्यवाही शुरू होने के तुरंत बाद स्पीकर ने सदन को स्थगित कर दिया..।

बिहार राजनीति

अब से कुछ देर में बिहार विधानसभा में कौन किसके साथ खेलेगा, इस बारे में बहुत सारे संशय दूर हो जाएंगे। सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बहुमत साबित करने के लिए विधानसभा पहुंचे हैं। विधानसभा की कार्यवाही भी शुरू हो गई है, जिसमें सबसे पहले अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी ने सभी का अभिवादन किया। वहीं, सदन की कार्यवाही शुरू होने के कुछ मिनटों बाद ही उन्होंने इसे स्थगित कर दिया। इसके मूल कारण राज्यपाल का भाषण है। बजट सत्र विधानमंडल के सेन्ट्रल हॉल में राज्यपाल के अभिभाषण से शुरू होगा। इसलिए सदन की बैठक स्पीकर ने स्थगित कर दी है. अब इसकी अगली बैठक सेन्ट्रल हॉल में होगी। दरअसल, 28 जनवरी को जब नीतीश कुमार ने एनडीए के समर्थन से बिहार में सीएम पद की शपथ ली थी तब राजद नेता तेजस्वी यादव ने पहले ही कहा था कि असली खेल होना अभी बाकी है. उनके इस बयान के बाद पिछले तीन-चार दिनों से बिहार में सभी राजनीतिक दलों के विधायकों को लेकर संशय की स्थिति बनी रही है.

राज्यपाल के अभिभाषण के बाद स्पीकर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा। सत्ता पक्ष के 38 विधायकों को इसका समर्थन देना होगा, अन्यथा स्पीकर उनके खिलाफ संख्या के हिसाब से मतदान करेगा। स्पीकर को हटाने के लिए कम से कम 122 विधायकों का समर्थन आवश्यक है। एनडीए की नीतीश सरकार का बहुमत स्पष्ट हो जाएगा अगर स्पीकर पद बच जाता है। यदि ऐसा नहीं होता तो नीतीश सरकार को जोखिम उठेगा। वहीं मतदान होगा और अगर राजद समर्थित गठबंधन के विधायकों की संख्या कम रहती है, तो स्पष्ट हो जाएगा कि तेजस्वी यादव को धोखा दिया गया है।

बिहार में भाजपा के 78 विधायक हैं, जबकि जदयू के 45, हम के 4 और निर्दलीय 1 हैं जो एनडीए खेमे में हैं. वहीं राजद के 79, कांग्रेस के 19 और वाम दलों के 16 विधायक महागठबंधन में हैं। वहीं अवध बिहारी चौधरी ने अपने इस्तीफे की मांग को खारिज कर दिया। बजट सत्र नियमावली के अनुसार चलेगा। विधानसभा में सोमवार को विशवास मत हासिल करने पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जदयू विधायकों ने जोरदार स्वागत किया। वहीं सदन में नीतीश कुमार को तेजस्वी यादव ने स्वागत किया।