सारण के DM का आदेश: स्वास्थ्य सेवाओं को बाधित करने वाली आशाकर्मियों को चिन्हित कर FIR करें

छपरा

छपरा : सारण के जिलाधिकारी अमन समीर की अध्यक्षता में जिले में टीकाकरण के अद्यतन स्थिति की समीक्षात्मक बैठक आहूत की गयी। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी के द्वारा जानकारी दी गयी कि आशाकर्मियों के हड़ताल से टीकाकरण कार्य गंभीर रूप से प्रभावित हुआ है। पूरे जिले में आशाकर्मियों के द्वारा टीकाकरण कार्य में व्यवधान के कारण बच्चों को समय पर टीका नहीं दिया जा रहा है। इस पर जिलाधिकारी ने गहरी नाराजगी जताते हुए इसे बच्चों के स्वास्थ्य एवं उनके भविष्य के लिए खतरनाक बताते हुए अविलंब कड़ी कानूनी कार्रवाई करने का सख्त निदेश दिया। निदेश में स्पष्ट रूप से बताया गया गया कि वैसे आशाकर्मियों को अविलंब चिन्हित करें जो स्वास्थ्य सेवाओं के साथ टीकाकरण कार्य को बाधित कर रही है। चिन्हित करने के पश्चात उसपर एफ.आई.आर. दर्ज करवाने का सख्त निदेश दिया गया।

इस संबंध में जिले के सभी थाना प्रभारी को निदेश दिया गया है। निर्देश दिया गया कि स्वास्थ्य सेवाओं में बाधा उत्पन्न करने से संबंधित वीडियो फुटेज को साक्ष्य बनाकर कानूनी कार्रवाई करें। स्वास्थ्य सेवा बाधित करने वाली दोषी आशाकर्मियों को आगे भविष्य में किसी भी सरकारी विभाग में कार्य नही देने की अनुशंसा भी की जाएगी। इस संबंध में अबतक सख्त कानूनी कार्रवाई नही करने एवं लापरवाही बरतने के कारण सिविल सर्जन सारण एवं जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी से स्पष्टीकरण पूछने का निदेश जिलाधिकारी के द्वारा दिया गया।

बताया गया कि स्वास्थ्य विभाग, बिहार सरकार से इस संबंध में स्पष्ट निदेश प्राप्त है कि स्वास्थ्य सेवा जैसी अत्यावश्यक सेवाओं को बाधित करना गंभीर अपराध की श्रेणी में माना जाएगा। अतः स्वास्थ्य सेवा में बाधा उत्पन्न करने वालों को गंभीर अपराध के लिए दोषी मानकर सख्त कानूनी कार्रवाई करने का निदेश दिया गया।

इस संबंध में जिले के सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से लिखित प्रतिवेदन की माँग करने का निदेश दिया गया कि अबतक उनके द्वारा स्वास्थ्य सेवाओं को बाधित करने वाली आशाकर्मियों के विरुद्ध क्या कार्रवाई की गयी है। जिला अस्पताल एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों के परिचालन हेतु एस.ओ.पी. बनाने का निदेश दिया गया। इसमें स्वास्थ्य सेवा हेतु सभी कर्मियों का दायित्व स्पष्ट रुप से उल्लेखित रहेगा। दिये गये दायित्व का निवर्हन नहीं करने वाले के विरुद्ध अनुशासनिक कार्रवाई की जाएगी। बैठक में सिविल सर्जन सारण, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी, स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सक एवं कर्मीगण उपस्थित थे।