सारण DM बोले- 2024 का लोकसभा चुनाव होगा यूनिक, सेक्टर की बढ़ेगी जवाबदेही

छपरा

छपरा। सेक्टर मजिस्ट्रेट और उनके साथ टैग पुलिस पदाधिकारी नियुक्ति के साथ ही सीधे चुनाव आयोग के अधीन हो जाते हैं. उनका कार्य अति महत्वपूर्ण है. जो सबसे पहले शुरु होता है और अंत तक चलता है. उक्त बातें जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिला पदाधिकारी अमन समीर ने प्रेक्षा गृह में आयोजित सेक्टर मजिस्ट्रेट और पुलिस पदाधिकारियों के प्रशिक्षण में कहीं. उन्होंने कहा कि इस बार का चुनाव थोड़ा यूनिक होने वाला है. क्यूंकि पीसीसीपी का पद समाप्त कर दिया गया है. ऐसे में सेक्टर की जवाबदेही पहले से बढ़ जाएगी.

सेक्टर को संबोधित करते हुए डीएम ने कहा कि फिल्ड में आप सभी ही चुनाव आयोग के आंख और कान हैं. आपकी रिपोर्ट पर ही कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए जाते हैं. इसलिए अपने कर्तव्य और दायित्व के प्रति गंभीर रहने के साथ आचार और व्यावहार को बिल्कुल निष्पक्ष रखने की जरूरत है. उन्होंने सेक्टर पदाधिकारियों के कार्य को चार भागों में बांटते हुए बहुत ही सरल तरीके से समझाया.

उन्होंने बताया कि प्रथम भाग में आपको अपने क्षेत्र के अधीन आने वाले सभी बूथों की पूर्ण जानकारी होनी चाहिए. तभी भेद्यता मैपिंग हो सकेगी. इसके तहत वलनरेबुल क्षेत्र और बूथ की संवेदनशीलता को चिन्हित किया जा सकता है. उन्होंने इसके लिए विगत दो चुनाव में हुए घटना-दुर्घटना, कम वोट प्रतिशत आदि को भी आधार बनाने का टिप्स दिया. साथ ही भ्रमण के दौरान कमजोर तबके के टोलों और इलाक़ों को आक्षादित करने और कॉन्फिडेंस बिल्डिंग करने का सतत प्रयास करने का टास्क दिया. दूसरे भाग में उपलब्ध न्यूनतम संसाधन का आंकलन करने और उसे पूरा कराने का फॉलोअप करने की बात कही.

तीसरे चरण में मतदान प्रक्रिया की पूर्ण जानकारी होने की बात कही. इसके तहत मतदान के पूर्व, मतदान के दिन और पश्चात किए जाने वाले कार्य की जानकारी दी. इसके लिए इवीएम संचालन की पूर्ण जानकारी रखने को कहा. डीएम श्री समीर ने बताया कि सेक्टर की अहम जिम्मेवारियों में आदर्श आचार संहिता का अनुपालन भी शामिल है. उन्होंने दस दिन के भीतर नजरी नक्शा, कम्युनिकेशन प्लान और विहित प्रपत्र में अचूक रूप से रिपोर्ट जमा करने की हिदायत दी ताकि समय पर अग्रेतर कार्रवाई की जा सके. उन्होंने रिपोर्ट को बिल्कुल गोपनीय रखने का निर्देश देते हुए सभी बीडीओ को साप्ताहिक बैठक कर फॉलोअप करने की बात कही. डीएम ने कहा कि समय-समय पर मेरे स्तर पर भी समीक्षा की जाएगी.

पुलिस अधीक्षक डॉ गौरव मंगला ने कार्यशाला को संबोधित करते हुए कहा कि प्रशासन के लिए स्वच्छ और निष्पक्ष चुनाव कराना बड़ा और गम्भीर कार्य है. इस कार्य में लापरवाही कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी. ऐसा पाए जाने पर सख्त कार्रवाई निश्चित होगी. उप निर्वाचन पदाधिकारी जावेद एकबाल ने पीपीटी के माध्यम से बिन्दुवार हर कार्य को समझाया. पूर्व में दीप प्रज्वलित कर विधिवत उद्घाटन किया गया.

मौके पर नगर आयुक्त सुमित कुमार, सहायक जिला पदाधिकारी सुश्री श्रेया सिंह, एडीएम मो मुमताज आलम, निदेशक डीआरडीए कैयूम अंसारी, एसडीएम सोनपुर कुमार निशांत विवेक, डीआईओ तारणी कुमार, अवर निर्वाचन पदाधिकारी एखलाक अंसारी, डीसीसीएलआर सदर गौरव शंकर, डीसीएलआर सोनपुर सुश्री सुनंदा कुमारी, ओएसडी मनीष कुमार और सभी बीडीओ आदि उपस्थित थे.