Samrat Choudhary became the Deputy Chief Minister of Bihar, but now in whose hands will the command of BJP be?

बिहार के उपमुख्यमंत्री सम्राट चौधरी बन गए, लेकिन अब किसके हाथ मे होगी BJP की कमान?

बिहार राजनीति

Bihar Politics: बीजेपी जातीय और क्षेत्रीय समानता पर विशेष जोर देती है. संजय जयसवाल की जगह सम्राट चौधरी अध्यक्ष बने. उनसे पहले केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय ने कार्यभार संभाला.

लोकसभा चुनाव से पहले बिहार में बीजेपी सत्ता में लौट आई है. बिहार बीजेपी अध्यक्ष सम्राट चौधरी को उनकी कड़ी मेहनत के कारण डिप्टी सीएम बनाया गया. सम्राट चौधरी के उप मुख्यमंत्री बनाये जाने के बाद अध्यक्ष बदलने की भी अफवाहें हैं. पार्टी में ‘एक नेता, एक पद’ का नियम लागू होने से माना जा रहा है कि बिहार में बीजेपी को जल्द ही नया प्रदेश अध्यक्ष मिल सकता है. जानकारी के मुताबिक, बीजेपी केंद्रीय नेतृत्व एक ऐसे नेता की तलाश में है जो न सिर्फ जुझारू और आक्रामक छवि वाला हो, बल्कि जातीय समीकरण को भी साधने में सक्षम हो.

बीजेपी जाति-क्षेत्र समीकरण पर खास जोर देती है. संजय जयसवाल की जगह सम्राट चौधरी प्रदेश अध्यक्ष बने. उनसे पहले केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय ने कार्यभार संभाला. नित्यानंद राय यादव समुदाय से आते हैं. तो जायसवाल वैश्य समुदाय से आते हैं. वहीं सम्राट चौधरी कुशवाहा जाति से हैं. 2019 का लोकसभा चुनाव नित्यानंद के नेतृत्व में और 2020 का विधानसभा चुनाव संजय जयसवाल के नेतृत्व में हुआ। इस बीच, सम्राट को राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लव कुश वोट बैंक में सेंधमारी करने के लिए प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था. उन्हें लोकसभा और विधानसभा चुनावों की जिम्मेदारी दी गई।

सम्राट चौधरी और विजय कुमार सिन्हा एनडीए सरकार के उपमुख्यमंत्री हैं। दोनों क्रमश: कुशवाह और भूमिहार जाति से आते हैं। बीजेपी कोटे से मंत्री बने प्रेम कुमार चंद्रवंशी समुदाय से आते हैं. नंद किशोर यादव को विधानसभा अध्यक्ष बनाया गया है, जो यादव जाति से आते हैं. अनुसूचित जाति से आने वाले किसी भी नेता को बड़ी जिम्मेदारी नहीं दी गई. माना जा रहा है कि ऐसी स्थिति में पार्टी किसी अनुसूचित जाति के नेता को अध्यक्ष की पद सौंप सकती है। हालांकि खबर यह भी है कि पार्टी लोकसभा चुनाव से पहले सम्राट चौधरी को अध्यक्ष पद से हटाने का जोखिम नहीं उठाना चाहती.