समाज को एकजुट रखने के लिए खेलों का आयोजन जरूरी: सलीम परवेज

छपरा

40 वीं जिला एथलेटिक्स प्रतियोगिता का हुआ समापन

छपरा। संसार में भाईचारा, प्रेम व सहिष्णुता बढ़ाने का एकमात्र साधन और उपाय खेल है. यही वह आयोजन है जहां जाति, धर्म और समुदाय से इतर केवल टीम भावना होती है. उक्त बातें जगदम कालेज के खेल ग्राउंड में आयोजित 40 वीं एथलेटिक्स प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरण समारोह में मुख्य अतिथि बिहार एथलेटिक्स संघ के अध्यक्ष सह बीएमईबी के चेयरमैन सलीम परवेज ने कहीं. उन्होंने कहा कि समाज को एकजुट रखने के लिए निरंतर खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन होना चाहिए. बिहार सरकार ने मेडल लाओ नौकरी पाओ की घोषणा कर खेल को कैरियर से जोड़ दिया है. मैंने खेल की बदौलत ही प्रसिद्धि पायी और युवाओं से जुड़ने का मौका मिला. इस अवसर पर उन्होंने एथलीटों को शुभकामनाएं देते हुए नेशनल के लिए शुभकामनाएं दिया.

आयोजन के प्रायोजक समाजसेवी ई अजित सिंह ने प्रतिभागियों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि ‘हार होती है जब मान लिया जाता है, जीत होती है जब ठान लिया जाता है’. उन्होंने कहा कि एथलेटिक्स सभी खेलों की जननी है. किसी भी खेल में बेहतर करने के लिए एथलेटिक्स में अच्छा होना होगा. उन्होंने कहा कि खेल अनुशासन सिखाता है. प्रतियोगिता में खेल भावना से भाग लेने की अपील करते हुए कहा कि यहां से लेकर स्टेट और नेशनल स्तर तक जाने में खिलाड़ियों की हर तरह की मदद की जाएगी. विशिष्ट अतिथि के रूप में मदरसा बोर्ड के अधिवक्ता शहजाद खान, एनआरआई रशीद अहमद अंसारी उपस्थित थे. अतिथियों का स्वागत आयोजक नीतीश पांडेय ने किया.

जबकि मौके पर चंदन कुमार शाही, संजय सिंह, राजकिशोर तिवारी, कोच चंदन कुमार, विनय कुमार, राज सिंह,
कमलजीत कुमार आदि उपस्थित थे. इस अवसर पर ओवर ऑल चैम्पियन का खिताब स्टूडेंट क्लब अमनौर को दिया गया. जबकि अंडर 14, 16 पुरुष और महिला वर्ग के चैम्पियन का खिताब भी अमनौर को दिया गया. रनरअप का खिताब छपरा को दिया गया. इस अवसर पर 38 वीं जुनियर नेशनल में हैम्मर थ्रो में पदक हासिल करने वाले मो कादिर को सम्मानित किया गया.