छपरा के युवाओं को आत्मनिर्भर डिजिटल भारत से जोड़ने के उद्देश्य से स्कूल ऑफ कंप्यूटर साइंस इंस्टिट्यूट का शुभारंभ

छपरा

छपरा। छपरा में युवा वर्ग के उज्जवल भविष्य को ध्यान में रख कर उन्हे आत्मनिर्भर डिजिटल भारत से जोड़ने के प्रयास में स्कूल ऑफ कंप्यूटर साइंस इंस्टिट्यूट का उद्घाटन छपरा के नगर निगम के मेयर लक्ष्मी नारायण गुप्ता द्वारा किया गया। उन्होंने इस संस्थान के संस्थापक कंप्यूटर इंजीनियर चंदन कुमार सिंह को बधाई देते हुए इस संस्थान को एक आत्मनिर्भर डिजिटल भारत से जोड़ने का प्रयास बताया।

मेयर ने बताया कि छपरा नगर निगम को हाईटेक सिटी बनाना चाहते हैं। ई० चन्दन सिंह प्रबंधक द्वारा सभी अतिथियों का आभार एवं धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन संयुक्त रूप से पंकज सिंह एवं गिरीश ओझा द्वारा किया गया। इस संस्थान के संस्थापक चंदन कुमार सिंह ने बताया कि स्कूल आफ कंप्यूटर साइंस भारत सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त संस्थान है, जिसमें समाज के सभी वर्गों के लिए एक विशेष छूट के साथ विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर कोर्स की शुरुआत की जा रही है।

कम्प्यूटर का बेसिक कोर्स दसवीं पास छात्रों से लेकर शोधार्थियो के लिए काफी फायदेमंद है। इसके साथ ही बेसिक शिक्षको को कंप्यूटर प्रशिक्षण प्रदान करने की भी सुविधा दी गई हैं। आजकल कंप्यूटर हमारी जिंदगी का महत्वपूर्ण अंग बन चुके हैं। आप माने चाहे ना माने इसका उपयोग प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से हम में से हर कोई हर रोज करते हैं। उन्होंने आगे बताया कि बोर्ड परीक्षाओं के उपरांत विद्यार्थी अपने खाली समय में विविध प्रकार के कोर्सों का लाभ विशेष छूट के साथ उठा सकते हैं। जिसके अंतर्गत ADCA, CCA, CDE, DFA, DCA, ADIT, Python, C++, Java, HTML, CSS और अन्य कोर्सों को शामिल किया गया है, जो वर्तमान में सरकारी और गैर सरकारी नौकरियों के लिए अत्यंत आवश्यक है।

इस उद्घाटन समारोह में पंकज कुमार सिंह, गिरीश ओझा, मनोज कुमार गुप्ता, अमरेंद्र सिंह, मनोज वर्मा, संजय सर, रेणु सिंह, बृजभूषण ओझा, भूपेंद्र नारायण सिंह, पंकज सिंह, परशुराम सिंह, मीना सिंह,
डॉ सुनीता कुमारी सिंह, डॉ रिंकी कुमारी, संजीव सिंह, अभिनंदन सिंह, राजेश कुमार ओझा, मनोज कुमार तिवारी, डॉ सत्येंद्र कुमार पांडे, डॉ निर्मल कुमार ओझा, विजय सिंह, आशि सिंह, रिशु सिंह, याना सिंह व अन्य छपरा शहर के जय प्रकाश विश्वविद्यालय और महाविद्यालय के शिक्षकों, विभिन्न स्कूलों के प्राचार्य और विभिन्न कोचिंग संस्थानों के संस्थापक, छात्र छात्राएं अन्य उपस्थित हुए।