सीएम नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह से मुलाकात की.

देश बिहार राजनीति

बिहार समाचार: नौवीं बार मुख्यमंत्री बनने के बाद नीतीश कुमार की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से यह पहली मुलाकात है। उम्मीद है कि इस मुलाकात के दौरान वह लोकसभा चुनाव की रणनीति को लेकर पीएम मोदी से मोदी मंत्र लेंगे, साथ ही 12 फरवरी को होने वाले विश्वास प्रस्ताव पर भी मंत्रणा करेंगे.

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. नौवीं बार मुख्यमंत्री बनने के बाद नीतीश कुमार की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से यह पहली मुलाकात है. उम्मीद है कि इस मुलाकात के दौरान वह लोकसभा चुनाव की रणनीति को लेकर पीएम मोदी से मोदी मंत्र लेंगे, साथ ही 12 फरवरी को होने वाले विश्वास प्रस्ताव पर भी मंत्रणा करेंगे. इसके अलावा नीतीश कुमार लोकसभा में बीजेपी और अन्य एनडीए सहयोगियों के साथ गठबंधन में सीटों पर चर्चा कर सकते हैं. पीएम मोदी के बाद नीतीश कुमार ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की. खबरों के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी ने नीतीश कुमार को नौवीं बार मुख्यमंत्री बनने पर बधाई दी.

आपको याद दिला दें कि पिछले महीने 28 जनवरी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महागठबंधन के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था और एनडीए में शामिल होने के बाद उन्होंने दोबारा मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. महागठबंधन में लालू प्रसाद यादव की राजद और कांग्रेस के अलावा वामपंथी दलों को तगड़ा झटका लगा है. जबकि इन सभी लोगों ने नीतीश कुमार के साथ मिलकर भारत बनाकर पीएम मोदी को अपदस्थ करने की योजना बनाई थी, लेकिन अब ये लोग सत्ता से बाहर हो चुके हैं.

एनडीए के मुख्यमंत्री बनने के बाद नीतीश कुमार का सबसे बड़ा मुद्दा 12 फरवरी को अपना बहुमत दिखाना होगा, क्योंकि तेजस्वी यादव और उनकी पार्टी के नेता अक्सर दावा करते रहे हैं कि उस तारीख को राज्य में खेल होगा। हालांकि, नीतीश कुमार की जेडीयू और भारतीय जनता पार्टी इसे खारिज करती रही है. बीजेपी नेता और उपमुख्यमंत्री सम्राट चौधरी का दावा है कि राज्य में बीजेपी-जेडीयू की सरकार है और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा उसे बाहर से समर्थन दे रही है, ऐसे में अब हमें किसी की मदद की जरूरत नहीं है. अगर कोई शामिल होना चाहता है तो हम इस पर विचार करेंगे.’

आपको बता दें कि बिहार में एक अजीब स्थिति पैदा हो गई है, स्पीकर अवध बिहारी चौधरी ने इस्तीफा देने से इनकार कर दिया है. चौधरी मुझे नियमों का पालन करने वाला व्यक्ति बताते हैं। हमें इस्तीफा क्यों देना चाहिए? उन्होंने कहा कि गाइडलाइन का पालन करने के लिए जो भी जरूरी होगा वो किया जाएगा. विधानसभा नियमों के तहत जो भी जरूरी होगा मैं वह करूंगा।’