संजीवनी संस्कार स्कूल में बच्चों को बिहार के गौरवशाली इतिहास के बारे में दी गयी जानकारी

छपरा

छपरा। शहर के श्यामचक आदर्श कॉलोनी स्थित प्रसिद्ध शैक्षणिक संस्थान संजीवनी संस्कार स्कूल में बड़े ही धूमधाम से शुक्रवार को बिहार दिवस मनाया गया। कार्यक्रम का उदघाटन स्कूल के प्रचार्य रणजीत भगत, शिक्षिका ज्योति सिंह, शिक्षिका ऋतू ठाकुर ने संयुक्त रूप से दीप प्रवजलित कर किया। इस मौके पर स्कूल के बच्चों को सम्बोधित करते हुए प्रचार्य रणजीत भगत ने बिहार के गौरवशाली इतिहास के में विस्तार से बताया।

उन्होंने कहा की हमें गर्व है कि हमने बिहार की ऐतिहासिक माटी पर जन्म लिया है।देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद की इसी धरती से ही राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने अंग्रेजों के खिलाफ आंदोलन का शंखनाद किया था । बिहार की अस्मिता को वर्तमान परिवेश में सहेजने व संरक्षित करने की आवश्यकता है,ताकि परंपरा को प्रगति से जोड़कर इतिहास को आगे ले जाया जा सके ।

शिक्षिका ज्योति सिंह ने कहा की आखिर इतिहास सिर्फ पढ़ने से नहीं बल्कि समाज को समझने और उसे बदलने का उपकरण है । अपने अतीत को जानना इसलिए जरूरी है कि इससे हमें गौरव बोध होता है ।गौरवशाली इतिहास हमे प्रेरणा देता है,तो कोई कालखंड गलत समय न दोहराने का समय भी देता है। वही इस मौके पर स्कूल की शिक्षिका ऋतू ठाकुर ने कहा की बिहार 112 वर्ष का हो चुका है । 22 मार्च 1912 को बिहार की स्थापना हुई थी ।हमारा बिहार प्रगति के पथ पर बढ़ चला है । यह प्रदेश विकास के नए नित मानदंड स्थापित कर रहा है ।

भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद बिहार के मूल निवासी थे । वही इस कार्यक्रम में स्कूली बच्चों ने एक -दूसरे से भोजपुरी में बात की। इस मौके पर प्रचार्य रणजीत भगत, ज्योति सिंह, ऋतू ठाकुर, ममता कुमारी, शिशिर श्रीवास्तव, जन्मज्य सिंह, संदीप शर्मा, सुरभि कुमारी, साबिया, प्रीति कुमारी, जयनत शर्मा, अंजलि पर्वत,प्रकाश इत्यादि मौजूद थे।