छपरा में भिखारियों के रहने के लिए खुला सेवा कुटीर, रहने-खाने से लेकर इलाज तक सुविधाएं उपलब्ध

छपरा

छपरा। छपरा में सड़कों पर, मंदिर के पास और रेलवे स्टेशनों के पास भीख मांगने वालों के लिए सरकार ने पहल की है। सरकार के द्वारा छपरा में सेवा कुटीर खोला गया है। सेवा कुटीर यानी पुरुष भिक्षुक पुनर्वास केंद्र खोला गया है। मुख्यमंत्री भिक्षावृति निवारण योजना के अंतर्गत समाज कल्याण विभाग, द्वारा संचालित सेवा कुटीर (पुरुष भिक्षुक पुनर्वास केंद्र) का उद्घाटन जिला पदाधिकारी अमन समीर द्वारा किया गया।

इस अवसर पर जिलाधिकारी ने सेवा कुटीर में आवासित लोगों से उनका कुशल क्षेम पूछा तथा नियमों का पालन करने को कहा। उन्होंने किचेन में खाने पीने की व्यवस्था का भी अवलोकन किया। मंदिर सड़क पर भीख मांगने वाले लाचार व्यक्ति को केंद्र पर रहने, खाने से लेकर इलाज तक की बेहतर सुविधा मुफ्त दी जाएगी।

मानसिक शारीरिक रूप से स्वच्छ होने के बाद उनकी क्षमता के अनुसार वोकेशनल ट्रेनिंग भी दिलाई जाएगी। इसके माध्यम से भिक्षावृत्ति से लोगों को निकाला जा सकता है। साथ ही लाचार और लावारिस व्यक्ति को बेहतर जीवन जीने का अधिकार भी मिलेगा। क्षमता के अनुसार इन्हें वोकेशनल प्रशिक्षण दिलाकर रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा।दरअसल भिक्षाटन और भिक्षुकों को इस योजना के माध्यम से उन्हें समाज के मुख्य धारा से जोड़ने की पहल है.

इस अवसर पर सहायक समाहर्ता, सुश्री श्रेया श्री, सहायक निदेशक, रश्मि कुमारी एवं बुनियाद केंद्र की डीपीएम नीलू कुमारी उपस्थित थे।