अब सारण में अल्ट्रा पोर्टेबल एक्सरे मशीन द्वारा 5 मिनट के में टीबी के मरीजों की होगी पहचान

छपरा

छपरा। अल्ट्रा पोर्टेबल एक्सरे मशीन के आ जाने से समुदाय में टीबी मरीज खोजने में काफी सहूलियत मिलने के साथ ही टीबी मुक्त पंचायत अभियान का लक्ष्य भी शत-प्रतिशत पूरा होगा। क्योंकि अब मात्र पांच मिनट के अंदर टीबी के मरीजों की पहचान होगी। उक्त बातें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मांझी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. रोहित कुमार ने एक्सरे मशीन के उद्घाटन समारोह के दौरान कही।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मांझी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ रोहित कुमार ने कहा कि भारत सरकार द्वारा आगामी 2025 तक सारण जिले सहित राज्य और पूरे देश से टीबी मुक्त बनाने का लक्ष्य रखा गया है। शुभारंभ के दिन 75 लोगो का एक्सरे किया गया जिसमें 7 टीबी के संदिग्ध मरीजों की पहचान हुई है। लेकिन अब इन लोगों का बलगम जांच किया जाएगा। उसके बाद ही टीबी की पुष्टि किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि यह मशीन सारण जिले के सभी प्रखंड, पंचायत और गांवों में जाकर कैंप लगाकर विशेष रूप से टीबी मरीजों की जांच करेगी। ताकि टीबी की पहचान करने में मदद किया जा सके।

विभागीय स्तर पर तैयार माईक्रोप्लान के अनुसार विभिन्न क्षेत्रों में स्वास्थ्य शिविर का किया जाएगा आयोजन: डॉ आरपी सिंह

जिला यक्ष्मा नियंत्रण पदाधिकारी डॉ रत्नेश्वर प्रसाद सिंह ने बताया कि जिले में टीबी उन्मूलन के लिए नियमित रूप से विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम संचालित किया जा रहा हैं। इस कड़ी में जिले के मांझी सीएचसी से अल्ट्रा पोर्टेबल एक्सरे मशीन का शुभारंभ किया गया है। जो भविष्य में टीबी मरीजों की लिए कारगर साबित होने वाला है। हालांकि इसके लिए विभागीय स्तर पर माईक्रोप्लान तैयार किया गया है। विभिन्न क्षेत्रों में स्वास्थ्य शिविर का आयोजन कर इस मशीन की सुविधा प्रदान की जाएगी। सबसे अहम बात यह है कि शिविर में टीबी मरीजों के साथ कई रोगियों देखा जा सकता है।

शिविर के दौरान अन्य रोगियों को मिलेगा इसका लाभ

वर्ल्ड विजन इंडिया के जिला समन्वयक रणधीर कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से बनाए गए माइक्रोप्लान के अनुसार इस मशीन को जिले के सभी स्वास्थ्य केन्द्र अंतर्गत गांवों में शिविर लगाकर सुविधा प्रदान की जाएगी। ताकि अधिक से अधिक टीबी मरीजों को न केवल अल्ट्रा पोर्टेबल एक्सरे के माध्यम से टीबी की जांच होगी बल्कि शिविर के दौरान अन्य मरीजों मसलन मधुमेह और उच्च रक्तचाप के रोगियों को भी इसका लाभ मिलने वाला है। पिछले महीने ही टीबी उन्मूलन अभियान के तहत यक्ष्मा विभाग को यह मशीन मिल गई थी। लेकिन आज से इसका शुभारंभ किया गया।इस अवसर पर एमओआईसी डॉ रोहित कुमार, सिफार के धर्मेंद्र रस्तोगी, वर्ल्ड विजन इंडिया के जिला समन्वयक रणधीर कुमार, बीसीएम विवेक कुमार व्याहूत, एसटीएस राजीव कुमार, एलटी मिथिलेश कुमार, वर्ल्ड विजन इंडिया के जिला पर्यवेक्षक पंकज कुमार सिन्हा और सामुदायिक उत्प्रेरक सुनील कुमार के अलावा कई अन्य लोग उपस्थित थे।