निरंकारी मिशन कोई नया धर्म या सम्पदाय नही बल्कि यह एक अध्यात्मिक विचार धारा है: नवल किशोर

छपरा

छपरा। जिले के मशरक बरहिया टोला के निरंकारी भवन मे रविवार को सत्संग का आयोजन हुआ। जिसमे काफी संख्या मे शामिल लोगो द्वारा सत्संग के माध्यम से निरंकारी मिशन के उद्देश्यो पर दिए गए विचारो का श्रवण किया।सत्संग के दौरान गुरूगद्दी पर विराजमान पटना के जोनल इंचार्ज नवल किशोर सिंह ने कहा कि निरंकारी मिशन कोई नया धर्म या सम्पदाय नही बल्कि यह एक अध्यात्मिक विचार धारा है।विभिन्न युगो के महात्माओ के मुख से प्रवाहित हुआ वही अध्यात्मिक विचार धारा आज समय के सद्गुरु माता सुमिक्षा जी महाराज निरंकारी मंडल प्रमुख के रूप मे दुनिया को यह पैगाम दे रही है कि संत निरंकारी मिशन उसी अध्यात्मिक विचार धारा के सहारे मानव मानव को एक करने का प्रयत्न कर रही है।

निरंकारी मिशन नर सेवा नारायण पूजा के भाव को मन मे लिए हुए निरंतर जात और मजहब को तोड़ कर मानव मात्र से प्यार करते हुए एक प्यार की सुंदर नगरी बसाने का यत्न कर रहा है।सत्संग के माध्यम से अपनी विचार देने वालो मे मुख्य रूप से हाजीपुर महुआ के क्षेत्रीय संचालक रमेश कुमार,पटना जोन के संयोजक हरिराम जी,मुखि शिवनारायण सिंह,रामपूजन सिंह, दाऊतपुर की निर्मला, डाॅ सचिन, डाॅ सुशांत नरेंद्र जी,जबकि गायक कलाकारो मे यूपी बलिया के हरिभजन जी और राजेश राणा शामिल थे।कार्यक्रम का संचालन सिवान के सोनु सिंह ने जबकि सेवादल का संचालन सेवादल संचालक अजय कुमार द्वारा किया गया।

उधर निरंकारी मिशन द्वारा सेवादल प्रशिक्षक बसंत राय के नेतृत्व मे भंडारा का आयोजन किया गया था।जहां हजारो लोगो द्वारा प्रसाद ग्रहण किया गया। कार्यक्रम मे चन्द्रदीप राम,विनोद गुप्ता,शंकर राय,तुलसी राय,काशी राम,अमृता,न्यन्त्री, शोभा,सबिता,सतेन्द्र गोस्वामी सहित अन्य सक्रिय रूप से शामिल थे। उघर सत्संग के बाद पहली बार मशरक निरंकारी भवन मे आए पटना जोनल इंचार्ज नवल किशोर जी द्वारा सैकड़ो लोगो को ज्ञान देकर निरंकारी मिशन से जोड़ा गया।