राजद और कांग्रेस में राज्यसभा की सीटों पर हुई चर्चा,नीतीश ने अपने भरोसेमंद पर खेला दांव

बिहार राजनीति

27 फरवरी को बिहार में राज्यसभा का चुनाव होगा। यही कारण है कि इंडी गठबंधन ने सीट बाँटने का अंतिम फैसला किया है, जो 12 फरवरी को आधिकारिक रूप से घोषित किया जाएगा। एमएलए की संख्या की वजह से राजद को दो सीट मिलना तय है। कांग्रेस ने तीसरी सीट पर अपना उम्मीदवार उतारा है। सीपीआई माले ने हालांकि एक सीट पर दावा ठोका है। माले अपनी पार्टी के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य को राज्यसभा में भेजना चाहती है। राजद-कांग्रेस ने एमएलसी चुनाव में एक सीट देने की घोषणा की है। बिहार विधान परिषद की 11 सीटों पर भी चुनाव आने वाले हैं।
बिहार की 6 राज्यसभा सीटों पर होने वाले चुनाव में तीन सीटों पर एनडीए उम्मीदवारों की जीत तय है. भाजपा के दो, जदयू के कोटे से एक सदस्य को राज्यसभा भेजा जाएगा.

सूत्रों का कहना है कि अगर राजद अपनी पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता और मौजूदा सांसद मनोज झा को राज्यसभा भेजती है, तो दूसरी सीट एक मुस्लिम को मिल सकती है। अहमद अश्फाक करीम, जो कटिहार की अलकरीम यूनिवर्सिटी की स्थापना की थी, वर्तमान में सांसद हैं। राजनीतिक हलकों में ये भी चर्चा है कि लालू परिवार का कोई भी सदस्य इस सीट पर राज्यसभा में शामिल हो सकता है।
वहीं, बिहार प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. अखिलेश प्रसाद सिंह का नाम भी चर्चा में है। अब अखिलेश राज्यसभा सांसद हैं और उनका कार्यकाल समाप्त होने वाला है।

वहीं जदयू से राज्यसभा का प्रत्याशी संजय झा होगा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की रणनीतिक टीम में संजय झा अहम हैं। दिल्ली में नीतीश के दूत के रूप में संजय झा कार्य करेंगे।

ध्यान दें कि राज्यसभा के छह सांसदों का कार्यकाल बिहार में समाप्त हो रहा है। कांग्रेस के एक, भाजपा के एक और जदयू के दो सांसदों का कार्यकाल खत्म हो रहा है। राजद के मनोज झा और अशफाक करीम, जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह और अनिल हेगड़े, भाजपा के सुशील कुमार मोदी, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डॉ अखिलेश प्रसाद सिंह राज्यसभा से रिटायर होने वाले हैं.