आईएमए के चिकित्सक करेंगे एमडीए अभियान में सहयोग

छपरा

• राज्य के आईएमए अध्यक्ष ने सदस्य चिकित्सकों को पत्र जारी कर दिए निर्देश

• सदस्य डॉक्टर अपने पर्ची पर रबर स्टाम्प लगाकर करेंगे लोगों को जागरूक

छपरा। फ़ाइलेरिया को राज्य सरकार ने एक सार्वभौमिक स्वास्थ्य समस्या के रूप में चिन्हित किया है. राज्य सरकार ने वर्ष 2030 तक राज्य से फ़ाइलेरिया उन्मूलन का लक्ष्य रखा है. इसके लिए हर वर्ष एमडीए अभियान संचालित किया जाता है जिसमे ज्यादा से ज्यादा लक्षित आबादी को फ़ाइलेरिया के दवाओं का सेवन कराया जाता है. इस वर्ष 10 फ़रवरी से राज्य के 24 जिलों में लोगों को फ़ाइलेरिया की दवा खिलाई जाएगी. इसके लिए राज्य सरकार एवं स्वास्थ्य विभाग सभी तैयारी कर रही है.

प्रस्तावित एमडीए अभियान को सफल बनाने में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन से जुड़े चिकित्सक भी अपना सहयोग प्रदान करेंगे. इस बाबत आईएमए बिहार के अध्यक्ष डॉ. डी. एस. सिंह एवं सचिव डॉ. अशोक कुमार ने संयुक्त रूप से पत्र जारी कर एसोसिएशन से जुड़े सभी सदस्य चिकित्सकों को प्रस्तावित एमडीए अभियान को सफल बनाने में अपना सहयोग देने का निर्देश दिया है.

चिकित्सकों को दिए गए निर्देश:

जारी पत्र में निर्देशित है कि फ़ाइलेरिया उन्मूलन के लिए हर साल चलाये जाने वाले सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम एक सटीक माध्यम है. अभियान के दौरान ज्यादा से ज्यादा लक्षित आबादी को फ़ाइलेरिया के दवा का सेवन कराया जाता है. पत्र में बताया गया है कि सदस्य चिकित्सकों द्वारा इस अभियान में सहयोग कर एवं समुदाय में जागरूकता फैलाकर इस अभियान को अधिक से अधिक सफल बनाया जा सकता है. अतः सभी सदस्य चिकित्सक प्रस्तावित एमडीए अभियान में सहयोग करना सुनिश्चित करें.

डॉक्टर अपने पर्ची पर रबर स्टाम्प लगाकर करेंगे लोगों को जागरूक:

जारी पत्र में बताया गया है कि सदस्य चिकित्सक मरीजों को दी जाने वाली दवा पर्ची में फ़ाइलेरिया से संबंधित जागरूकता का रबर स्टाम्प लगाना सुनिश्चित करेंगे. जारी पत्र में बताया गया है कि केयर इंडिया के सहयोग से सदस्य चिकित्सकों को उक्त रबर स्टाम्प जल्दी ही उपलब्ध करायी जाएगी .
24 जिलों में चलेगा अभियान- डॉ. परमेश्वर प्रसाद
राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी, फ़ाइलेरिया डॉ. परमेश्वर प्रसाद ने बताया कि सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम राज्य के 24 जिलों में संचालित किया जायेगा. इस दौरान 16 जिलों में 2 दवाएं एवं शेष 8 जिलों में तीन तरह की दवाएं घर-घर जाकर लोगों को खिलाई जाएगी. आईएमए बिहार के सभी सदस्य चिकित्सक इस अभियान को सफल बनाने के लिए समुदाय के बीच अपने स्तर से जागरूकता फैलायेंगे.
केयर इंडिया के फ़ाइलेरिया के टीम लीड विकास सिन्हा ने बताया कि कुछ दिन पूर्व केयर इंडिया के सौजन्य से आईएमए बिहार के साथ राज्यस्तरीय बैठक की गयी थी जिसमे एमडीए अभियान में एसोसिएशन के सहयोग पर विस्तार से चर्चा की गयी थी. बैठक में आईएमए के सदस्य चिकित्सकों ने एमडीए कार्यक्रम में अपने सहयोग करने के संबद्ध में प्रतिबद्धता जाहिर की थी.