Why did 3 RJD MLAs support CM?

RJD के 3 विधायकों ने CM का साथ क्यों दिया?

बिहार राजनीति

12 फरवरी को बिहार विधानसभा में नीतीश सरकार ने फ्लोर टेस्ट पास कर लिया, जिससे एनडीए की सरकार बन गई। जेडीयू के कुछ विधायक भी नाराज थे, लेकिन देर तक विधानसभा पहुंचे। आरजेडी से बाहर निकलने वाले तीन विधायक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ आ गए और सरकार के पक्ष में वोटिंग कर दी। हालाँकि कोई नहीं बता रहा है कि इसके पीछे क्या साजिश है, लेकिन जेडीयू के मुखर विधायक गोपाल मंडल ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार को सिर चकरा जाएगा।

भागलपुर के गोपालपुर विधानसभा से विधायक गोपाल मंडल ने इसके पीछे खुद को ही मास्टरमाइंड बताया है. बीते बुधवार (14 फरवरी) को एक वीडियो सामने आया है जिसमें इसकी जिम्मेदारी वो अपने सिर पर ले रहे हैं. इसका वीडियो एबीपी न्यूज़ के पास भी मौजूद है. खुद बता दिया है कि आरजेडी के तीन विधायक किस कारण सरकार में शामिल हुए हैं.

‘गोल हम ही न भड़काए हैं…’

गोपाल मंडल ने कहा कि ऐसा माहौल था पटना में कि हम नहीं भिड़ते तो सरकार नहीं बनती. गोल हम ही न भड़काए हैं. इसके बाद गोपाल मंडल ने आरजेडी के तीनों विधायक चेतन आनंद, प्रहलाद यादव और नीलम देवी ने किस वजह से नीतीश कुमार का साथ दिया इसके बारे में भी बताया.

चेतन आनंद का नाम लेते हुए कहा, “यह तो पहले से वादा था, क्योंकि उनके पिता आनंद मोहन को तो नीतीश कुमार ने ही न जेल से निकलवाए, नियम कानून बदलकर, इस कारण आरजेडी से निकले हैं. उसके भाई से एफआईआर करवाया गया उसके बाद वहां (तेजस्वी आवास) से लाया गया.”

चेतन आनंद ही नहीं नीलम देवी और प्रहलाद यादव के बारे में भी गोपाल मंडल ने खुलासा किया. कहा कि नीलम देवी अपने पति (अनंत सिंह) को निकलवाने के लिए सरकार में शामिल हुई हैं. कानून बनाकर उनको निकाला जाएगा. प्रहलाद यादव के बारे में कहा कि उनके लिए बालू फ्री करवा दिया गया है. यही सब कारण है. गोपाल मंडल के दिए गए बयान में कितनी सच्चाई है इसकी पुष्टि एबीपी न्यूज़ तो नहीं कर सकता, लेकिन उनके इस बयान पर सियासी बवाल जरूर मच सकता है.