सारण के चर्चित पुर्व मुखिया हत्याकांड का खुलासा, जेल में बंद मुखिया पति विजय यादव ने सात लाख में कराया था हत्या

छपरा

सारण पुलिस के लिए बना था पहेली खुलासा के बाद मिली राहत

छपरा। सारण जिला के मांझी थाना क्षेत्र के मुबारकपुर में तीन जून को पूर्व मुखिया हरेंद्र यादव की हुई हत्या का गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। आपको बताते चलें कि पूर्व मुखिया हरेंद्र यादव की हत्या के बाद पुलिस के लिए यह केस एक पहेली बन गया था। हत्या के बाद पूर्व मुखिया हरेंद्र यादव के परिजनों द्वारा छह लोगों को नामजद किया गया था।

जिसमें से पुलिस ने एक आरोपित को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। सारण पुलिस अधीक्षक डॉ गौरव मंगला ने बताया कि पुलिस ने एसआईटी गठन कर मामले के अनुसंधान में लग गई थी। पुलिस ने कार्रवाई में तकनीकी सर्विलांस एवं अन्य माध्यमों से बारीकी से अनुसंधान किया गया। इस घटना के चश्मदीद गवाह बलीराम मंडल उर्फ कविंद्र जो हत्या के समय मृतक के साथ थे। उनसे गहराई से पूछताछ की गई चश्मदीद गवाह द्वारा पुलिस के समक्ष माननीय न्यायालय में दिए गए बयान के अनुसार यह घटना माह फरवरी 2023 में मुबारकपुर में हुए दोहरे हत्याकांड के मुख्य अभियुक्त विजय यादव के करीबी सहयोगी लाली यादव द्वारा इस घटना की साजिश रची गई।

लाली यादव ने ही इस साजिश कि पूरी योजना बनाई एवं घटना के अंजाम देने हेतु अपराधियो को इक्ट्ठा किए जिसमें रवि यादव के अलावा सुग्रीव यादव, दीपक यादव, एवं अन्य शामिल थे। इस हत्या हेतु अपराधियो को सात लाख की कीमत तय की गई थी। इन्होंने घटना के दिन मृतक हरेंद्र राय का एक विवाह कार्यक्रम से मोटर साइकिल पर पीछा कर सुनसान जगह पर जाकर गोली मारकर हत्या कर दी। स्वीकारोकीत के बयान के अनुसार घटना का कारण यह है कि विजय यादव का मानना है कि इनके पिता की 07,12, 21को हुई हत्या में मुख्य साजिशकर्ता मृतक हरेंद्र राय ही थे।

इस घटना के आलोक में दर्ज मांझी थाना कांड सo _439/21 दीo 07,12,2021 में मृतक हरेंद्र राय अप्राथमिकी अभियुक्त भी थे। साथ ही माह फरवरी 2023 में विजय यादव एवं अन्य द्वारा कारित दोहरे हत्याकांड (कांड सo_38/23) का विडियो वायरल करने का जिमेमवार विजय यादव द्वारा हरेंद्र राय को माना जा रहा था, जिसके कारण इन लोगों पर कानूनी कार्रवाई हुई। विजय यादव एवं हरेंद्र राय के बीच राजनीतिक प्रतिध्दिता थी एवं दोनो पक्ष 2021में मुखिया चुनाव में एक दूसरे के कट्टर प्रनिध्दंती थे। इन्हीं कारणों से विजय यादव द्वारा लाली यादव के माध्यम से इस घटना की साजिश रची गई। घटना के आरोपी रवि यादव को जेल भेज दिया गया।

एक अन्य शूटर दीपक यादव द्वारा सिसवन सिवान थाना कांड संo_250/21में इस घटना के बाद आत्मसमर्पण किया गया है। व सुग्रीव यादव को इस घटना के बाद सिसवन सिवान थाना कांड सo_297/22 में सिवान पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है। इन दोनों को इस कांड में रिमांड किया जाएगा। इस घटना में संलिप्त शेष अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु छापेमारी की जा रही है।