एक्शन में सारण पुलिस: छपरा में गोली मारने वाले पूर्व विधायक के भाई और भतीजा गिरफ्तार

क्राइम छपरा

छपरा। सारण जिले के गौरा ओपी क्षेत्र के नरहरपुर गांव में पूर्व विधायक के दो भतीजे को गोली मारने के आरोपी जयराम राय और उनके विश्वजीत कुमार को पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार कर लिया है। घटना प्रयुक्त हथियार और मोटरसाइकिल के साथ पिता पुत्र को गिरफ्तार कर लिया गया है। नरहर पुर में छपरा के पूर्व विधायक स्व. रामप्रवेश राय के भाई ने अपने दो भतीजों को गोली मारकर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया है। घटना गुरूवार की दोपहर की बतायी जा रही है। रामप्रवेश राय के छोटे भाई जयराम राय ने अपने भतीजे शत्रुधन राय और राजन राय को गोली मारी है। वहीं इस घटना पूर्व विधायक के पुत्र व जिला परिषद के सदस्य आनंद राय पर भी फायरिंग की गयी है। उनके ऊपर पांच राउंड गोली चलायी गयी है।

जिसमें वह बाल-बाल बच गये। लेकिन राजन राय और शत्रुधन राय को गोली लग गयी। रामदयाल राय के 26 वर्षीय पुत्र राजन राय को पेट में गोली लगी है। वहीं भोला राय के 40 वर्षीय पुत्र शत्रुधन राय को जांघ में गोली लगी है। आनन-फानन में दोनों को छपरा सदर अस्पताल में लाया गया जहां से प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर इलाज के पटना पीएमसीएच रेफर कर दिया गया है। वहीं घटना सूचना मिलते मौके पर पहुंची पुलिस मामले की जांच में जुट गयी है।

घटना के संबंध में आनंद राय ने बताया कि जिला परिषद के फंड से गांव में यात्री शेड बनाने के लिए फंड पास हुआ है। गांव के ही खैनिया बाबा के पास यात्री शेड का निर्माण कराया जा रहा है। गांव के सभी लोगों का राय है कि यहीं पर यात्री शेड बने। लेकिन जयराम ने इसका विरोध किया और ठेकेदार को काम करने से रोक दिया। जिसके बाद ठेकेदार ने फोन कर इसकी सूचना दी। जिसके बाद आंनद राय पहुंचे और उनके चाचा जयराम राय से विवाद हो गया।

इसी बीच गोलीबारी शुरू हो गयी। जिसमें शत्रुधन राय और राजन राय को गोली लग गयी। लेकिन आनंद राय किसी तरह से बच निकलें। फिलहाल दोनों घायलों को इलाज के लिए पटना रेफर कर दिया गया। पूर्व से आंनद राय और जयराम राय के बीच चुनाव को लेकर भी विवाद चल रहा है। दोनों एक दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ चुके है। जिसमें जय राम राय को हार मिली थी और आंनद राय ने जिला परिषद के पद पर जीत हासिल की थी।