PM Modi's gift to the residents of Saran, Ekma and Mashrak stations will be redeveloped, facilities like airport will be available.

सारणवासियों को PM मोदी की सौगात, एकमा और मशरक स्टेशन का होगा पुनर्विकास, एयरपोर्ट जैसी मिलेगी सुविधाएं

छपरा बिहार

छपरा : भारतीय रेल पर आगामी 50 वर्षों की आवश्यकताओं को देखते हुये रेलवे स्टेशनों पर विश्वस्तरीय यात्रा सुविधायें उपलब्ध कराने हेतु उनके पुनर्विकास का कार्य तथा समपारों पर संरक्षा के दृष्टिकोण से रोड ओवर ब्रिज/अंडरपास के निर्माण का कार्य तेजी से किया जा रहा है। इसी क्रम में सोमवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग पूर्वोत्तर रेलवे पर 32 स्टेशनों में से वाराणसी मंडल के अंतर्गत 12 स्टेशनों के अंतर्गत एकमा स्टेशन पर रू 07.49 करोड़ एवं मसरख स्टेशन पर रू 12.51 करोड़ की लागत से स्टेशनों के पुनर्विकास का शिलान्यास किया गया । इसके साथ ही सारण जिले में पड़ने वाले एल.एच.एस. – 55 (मुबारकपुर – मुहम्मदपुर, सारण) अंडरपास का शिलान्यास भी किया गया ।

इस अवसर पर मशरख रेलवे स्टेशन पर महाराजगंज के सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल की अध्यक्षता में आयोजित समारोह में पूर्व विधायक/बनियापुर राजेन्द्र सिंह, सहायक मंडल इंजीनियर/छपरा जीबी सिंह, भाजपा के पदाधिकारियों समेत भारी संख्या में क्षेत्रीय नागरिक उपस्थित थे । इसी प्रकार एकमा रेलवे स्टेशन पर महाराजगंज के सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल की अध्यक्षता में आयोजित समारोह में स्थानीय जं प्रतिनिधि, भाजपा के पदाधिकारी समेत भारी संख्या में क्षेत्रीय जनता उपस्थित थी । उक्त दोनों कार्यक्रमों में स्थानीय कलाकारों एवं स्कूल के बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुतिकरण किया गया और कार्यक्रम के अंत में दोनों स्टेशनों के निकट स्थित विद्यालयों पर ‘2047 तक विकसित भारत, विकसित रेलवे‘ विषय पर पूर्व में करायी गई वाक्, पेंटिंग एवं निबन्ध प्रतियोगिताओं के विजेता छात्र-छात्राओं को पुरस्कृत किया गया ।

केंद्रीयकृत कार्यक्रम से शिलान्यास एवं लोकार्पण करने के उपरांत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा की आज का ये कार्यक्रम, नए भारत की नई कार्य संस्कृति का प्रतीक है। आज भारत जो करता है, अभूतपूर्व स्पीड से करता है। आज भारत जो करता है, अभूतपूर्व स्केल से करता है। आज के भारत ने छोटे-छोटे सपने देखना छोड़ दिया है। हम बड़े सपने देखते हैं और उन्हें पूरा करने के लिए दिन रात एक कर देते हैं। यही संकल्प इस विकसित भारत-विकसित रेलवे कार्यक्रम में दिख रहा है। मैं इस कार्यक्रम में देशभर से जुड़े सभी साथियों का अभिनंदन करता हूं। हमारे साथ 500 से अधिक रेलवे स्टेशनों और डेढ़ हजार से ज्यादा दूसरी जगहों से लाखों लोग जुड़े हैं।आज एक साथ रेलवे से जुड़ी 2000 से अधिक परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। अभी तो इस सरकार के तीसरे टर्म की शुरुआत जून महीने से होने वाली है। अभी से जिस स्केल पर काम होना शुरू हो गया है, जिस स्पीड पर काम होना शुरू हो गया है, वो सबको हैरत में डालने वाला है। कुछ दिन पहले मैंने जम्मू से एक साथ IIT-IIM जैसे दर्जनों बड़े शिक्षा संस्थानों का लोकार्पण किया। कल ही मैंने राजकोट से एक साथ 5 एम्स और अनेक मेडिकल संस्थानों का लोकार्पण किया। और अब आज का ये कार्यक्रम है, आज 27 राज्यों के, करीब 300 से अधिक जिलों में, साढ़े 500 से ज्यादा रेलवे स्टेशनों के कायाकल्प का शिलान्यास हुआ है। आज यूपी के जिस गोमतीनगर रेलवे स्टेशन का लोकार्पण हुआ है, वो वाकई कमाल का दिखता है। इसके अलावा आज, 1500 से ज्यादा रोड, ओवरब्रिज, अंडरपास इसकी परियोजनाएं भी इसमे शामिल हैं। 40 हज़ार करोड़ रुपए की ये परियोजनाएं, एक साथ जमीन पर उतर रही हैं। कुछ महीने पहले ही हमने अमृत भारत स्टेशन योजना की शुरुआत की थी। तब भी 500 से अधिक स्टेशन्स के आधुनिकीकरण पर काम शुरु हुआ था। अब ये कार्यक्रम इसे और आगे बढ़ा रहा है। ये दिखाता है कि भारत की प्रगति की रेल किस गति से आगे बढ़ रही है।