संक्रमण से बचने के लिए माहवारी स्वच्छता प्रबंधन जरूरी

छपरा

छपरा। गैर -राजनैतिक व सामाजिक संगठन सोशल सर्विस एक्सप्रेस की महिला इकाई एंजल द हेल्पिंग हैंड्स द्वारा भागवत विद्यापीठ छपरा के तत्वाधान में माहवारी स्वच्छता दिवस के एक दिन पूर्व महिला सशक्तिकरण के उद्देश्यों के साथ “स्वस्थ बिटिया – सशक्त बिटिया ” अभियान के तहत किशोरावस्था मे होने वाले हार्मोनल असंतुलन विषयक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन भगवान बाजार स्थित संस्थान में किया गया ।कार्यक्रम की शुरुआत शहर की उपमेयर रागिनी देवी, चिकित्सिका डॉक्टर किरण ओझा ,सुप्रिया जायसवाल,भागवत विद्यापीठ के प्राचार्य डॉ अमरेन्द्र कुमार सिंह ,संस्था की अध्यक्षा शालिनि द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया ।सभी अतिथियों का स्वागत प्राचार्य डॉ सिंह द्वारा पौधा प्रदान कर किया गया ।अतिथियों का स्वागत करते हुए प्राचार्य ने कहा की संस्था के प्रयासों को सबलता प्रदान करने के लिए विद्यालय हमेशा तैयार है एक बेहतर प्रयास के साथ संस्था कार्य कर रही है । कार्यक्रम के बारे में मेयर राखी गुप्ता ने किशोरियों के लिए किए गए प्रयास को सराहा और कहा कि छपरा में ऐसे कार्यक्रम निरंतर होना चाहिए यह एक अच्छी पहल है ।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उपमेयर रागिनी देवी ने कहा कि संस्था द्वारा ऐसे जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन एक बेहतर पहल है ऐसे आयोजनों से समाज मे माहवारी के प्रति जो भी भ्रांति है दूर होती है । शिक्षिका रूबी देवी ने कहा कि महिलाओं को ऐसे कार्यक्रम से आत्मबल मिलेगा और वो माहवारी के दिनों में खास ख्याल रखेंगी।

माहवारी स्वच्छता दिवस के एक दिन पूर्व माहवारी स्वच्छता प्रबंधन पर दी गई जानकारी

माहवारी स्वच्छता दिवस के एक दिन पूर्व आयोजित कार्यक्रम में शैक्षणिक सत्र को संबोधित करते हुए डॉ किरण ने कहा की मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता पर विशेष ध्यान कई बीमारियों से आपको बचाता है ।किशोरियो को माहवारी के दिनों में अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना चाहिए। माहवारी के दिनों में संतुलित आहार जरुरी होता है। संस्था की सचिव प्रीति श्रीवास्तव ने बताया कि संस्था की कोशिश है कि माहवारी स्वच्छता प्रबंधन की जानकारी विभिन्न माध्यमो से सभी किशोरियों तक पहुँचे इससे उनमें आत्मविश्वास का संचार होगा। शैक्षणिक सत्र में केवल किशोरियां ही रहती है जिससे वो खुलकर अपने सवाल पूछती है ।

कार्यक्रम में किशोरियो द्वारा कई सवाल भी पूछे गए । एक छात्रा के सवाल की माहवारी के दिनों में खानपान का विशेष ध्यान देना चाहिए,डॉ ओझा ने बताया की माहवारी के दिनों में रक्तस्राव होने से थोड़ा असहज कई किशोरियां महसूस करती है इन दिनों में तैलीय आहार व जंक फूड से बचना चाहिए। माहवारी सामान्य प्रक्रिया है संतुलित आहार लें और सामान्य दिनों की तरह ही व्यवहार करने की कोशिश करनी चाहिए। कार्यक्रम में दर्जनों लड़कियों के सवाल पर डॉक्टर द्वारा जानकारी दी गयी।

कार्यक्रम के जागरूकता सत्र में शिक्षिका रोमा देवी,आकृति रचना,सारिका सिंह ,अर्चना श्रीवास्तव , अंजली अग्रवाल, समाजसेविका मंजू गुप्ता,सुनिधि गुप्ता, वंशिका, ज्योति , अनिता, वैष्णवी, अंशिका, लकी, प्रियंका, अभिलाषा , सहित कई किशोरियाँ उपस्थित थीं।