मिशन 60 दिन: सदर अस्पताल की बदल रही है तस्वीर, मरीजों को मिल रही गुणवत्तापूर्ण सुविधाएं

छपरा

• 24 घंटे लैब जांच की सुविधा उपलब्ध
• मरीजों को मिल रही है दीदी की रसोई का पौष्टिक भोजन
• वार्डों को किया जा रहा है सुसज्जित

छपरा,3 नवम्बर । सूबे के स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव के निर्देश पर जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं को गुणवत्तापूर्ण बनाने तथा मरीजों को बेहतर सेवा उपलब्ध कराने के लिए विभाग के द्वारा लगातार प्रयास किया जा रहा है। मिशन 60 दिन के तहत सदर अस्पताल में सकारात्मक बदलाव देखने को मिल रहा है। सदर अस्पताल को पूरी तरह से रिमॉडलिंग किया जा रहा है। सभी वार्डों को सुसज्जित किया जा रहा है। सिविल सर्जन डॉ. सागर दुलाल सिन्हा ने बताया कि लेबर रूम, इमरजेंसी रूम, ओपीडी आदि में सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं । अस्पताल में आये लोगों को पेयजल, बैठने की व्यवस्था, साफ-सफाई की व्यवस्था भी सुलभ कराई जा रही है। सदर अस्पताल में रंगाई-पोताई, सामान्य वार्ड, लेबर वार्ड समेत पूरे अस्पताल की सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं । ओपीडी के मरीजों के बैठने हेतु प्रतीक्षा कक्ष बनाये जा रहे हैं । पेयजल हेतु गेट के समीप नल की व्यवस्था की गयी है। सदर अस्पताल में 24 घंटे पैथोलॉजी जांच लैब की सुविधा शुरू कर दी गयी है। इसके साथ हीं मरीजों तथा उनके परिजनों के लिए दीदी की रसोई का पौष्टिक भोजन भी उपलब्ध कराया जा रहा है।

वार्ड को किया गया है सुसज्जित:
जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीसी रमेश चंद्र कुमार ने बताया कि मिशन 60 के तहत अस्पताल की सुविधाओं को बेहतर बनाने पर जोर है। अलग-अलग वार्डों के शौचालय और यूरिनल को भी दुरुस्त किया गया है। मरीज और परिजनों के लिए बैठने वाली जगहें भी चकाचक होंगी। अस्पताल में मिलनेवाली सभी चिकित्सा सुविधा मरीजों एवं परिजनों को ससमय उपलब्ध हो सके, इसके लिए सिविल सर्जन और उनकी टीम लगातर मंथन कर रही है। अब डॉक्टरों के आने-जाने के समय पर भी निगरानी की जा रही है। एक्सरे, अल्ट्रासाउंड एवं जांच संबंधी सुविधाओं की विशेष निगरानी की जा रही है। अस्पताल परिसर में हर सुविधा बेहतर करने का प्रयास जारी है। इन दिनों सदर अस्पताल परिसर में हर तरफ मरम्मत का काम चल रहा है। कहीं फ्लैक्स, तो कहीं साईनेज बोर्ड लग रहा है। रजिस्ट्रेशन काउंटर से लेकर दवा काउंटर को दुरुस्त करने पर जोर है। पूरे अस्पताल परिसर में इंडिकेटर बोर्ड लगाया जायेगा। कौन सा विभाग कहां और किधर है, इसकी जानकारी देनेवाले बोर्ड और इंडिकेटर की व्यवस्था हो रही है। सदर अस्पताल के बाहरी हिस्से में बड़ा सा मेन बोर्ड लगाया जायेगा। जिससे दूर से लोगों को सदर अस्पताल होने की जानकारी मिल सकेगी। अस्पताल परिसर के सौन्दर्यीकरण पर भी जोर है ।
व्यवस्थित ढंग से सेवाओं का लाभ पहुंचाना उद्देश्य:

डीपीएम अरविन्द कुमार ने बताया कि मिशन 60 दिन, मरीज व उनके परिजनों की सुविधा, सेवाओं की गुणवत्ता, जरूरी सेवाओं तक लोगों की आसान पहुंच के साथ-साथ अस्पताल को सुव्यवस्थित व सुसज्जित करने से जुड़ा है। रेफरल सेवाओं की मजबूती, एम्बुलेंस सेवाओं का सुदृढीकरण, ओपीडी व इमरजेंसी सेवाओं का बेहतर संचालन, मातृ-शिशु स्वास्थ्य सेवाओं की मजबूती अस्पताल परिसर में स्वच्छ व सुंदर बनाने से जुड़े कई महत्वपूर्ण पहलू इसमें शामिल हैं।

हर्बल गार्डन से मरीजों को मिलेगा फायदा:
सदर अस्पताल में हर्बल गार्डन बनाया गया है। जिससे स्वास्थ्य विभाग बुखार, खांसी व जुकाम समेत अन्य छोटी-मोटी बीमारियों का इलाज अपने हर्बल गार्डन में मौजूद औषधीय पौधों से कर सकेगा। इसलिए हर्बल गार्डन में औषधीय गुणों वाले पौधों को उगाया जाएगा। हर्बल गार्डन में सभी प्रकार के औषधीय पौधे लगाए जाएंगे। इनमें मुख्य रूप से अश्वगंधा, तुलसी, एलोवेरा, सतावर, निरगुंडी, अरीठा, त्रिफला आंवला, सिंदूरी, मेहंदी , अशोक, कढ़ी पत्ता, हींग, बेल आदि जड़ी बूटियों के पौधे लगाए जाएंगे। इन पौधों के बड़े होने पर उनसे जड़ी बूटी भी निकाली जा सकेगी। साथ ही अस्पताल के सभी कोनों पर नीम तथा पीपल के वृक्ष लगाए जा रहे हैं। फिर मरीज पेड़-पौधों के सानिध्य में अपनी बीमारी दूर भगाएंगे।