सारण के लाल विलास कुमार सिंह बने आर्मी में लेफ्टिनेंट ऑफिसर

छपरा सफलता की कहानी

छपरा। सारण के लाल विलास कुमार सिंह ने आर्मी में लेफ्टिनेंट ऑफिसर बनकर जिला और गांव-जवार का नाम रौशन किया है।  पासिंग आउट परेड के बाद विलास के कंधो पर जब स्टार सजाए गए, तो उसके परिजनों की खुसी देखते बन रही थी।  सारण जिले के जलालपुर प्रखंड के नवादा मठिया गांव निवासी रिटार्यड आर्मी कैप्टन उमेश कुमार सिंह के पुत्र विलास कुमार सिंह आइएमए देहरादून से पासिंग आउट परेड के बाद सेना में लेफ्टिनेंट बन गया।

विलास कुमार सिंह के इस उपलब्धि पर घर परिवार और गांव समाज में खुशी का माहौल है। विकास की प्रारंभिक शिक्षा गांव से हुई है। उसके बाद मैकेनिकल से बीटेक की पढ़ाई पूरी की। अब आर्मी में लेफ्टिनेंट बनकर पूरे जिले का नाम रौशन किया है।

पिता उमेश कुमार सिंह ने कहा कि देश सेवा के लिए बेटे को भेज कर काफी आनंद का अनुभव रहा है ।भारत माता की रक्षा के लिए बेटा अब अधिकारी के तौर पर अग्रणी भूमिका निभाएगा।मुहल्ले के छोरा को  लेफ्टिनेंट बनने पर लोगों में भी खुशी का माहौल है। लेफ्टिनेंट बनने के बाद विलास कुमार सिंह ने कहा की आज जो कुछ भी हूं ,उसमें घर -परिवार का अहम स्थान है ।

देश की आन बान शान की रक्षा करने के लिए सुरक्षा बल देने के लिए देहरादून आईएमए में पासिंग आउट परेड आयोजित की गई। पासिंग आउट परेड के बाद पीपिंग सेरेमनी की रस्म हुई।  इसके साथ ही पासिंग आउट परेड में प्रशिक्षण के दौरान बेहतर परफॉर्मेंस देने वाले जीसी को भी अवॉर्ड दिया गया। आज भारतीय सेना को 343 सैन्य अफसर मिले हैं।