लोकसभा चुनाव: प्रत्येक बूथ पर कराया जाएगा डमी मतदान

छपरा

मोबाईल डोमेस्ट्रेशन वैन से भेजे जाएंगे इवीएम

मास्टर ट्रेनर और ईए को दिया गया प्रशिक्षण

छपरा।जिले के सभी 3029 बूथ पर डमी मतदान का आयोजन किया जाएगा. इस दौरान लोग वास्तविक इवीएम पर वोट डालेंगे. चुनाव आयोग के निर्देश पर जागरूकता अभियान के तहत यह कार्यक्रम 16 जनवरी से दो फरवरी तक चलाया जाएगा. जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह डीएम अमन समीर ने इसके लिए मोबाईल डोमेस्ट्रेशन वैन संचालित करने का आदेश दिया है. चुनाव संबंधी विभिन्न प्रकार की जानकारी वाले शाइनेज और साउंड सिस्टम से सुसज्जित यह वैन इवीएम लेकर प्रत्येक बूथ पर पहुंचेंगे. उक्त जानकारी उप निर्वाचन पदाधिकारी जावेद एकबाल ने दी.

उन्होंने बताया कि प्रत्येक वैन पर इवीएम डेमोंस्ट्रेशन और वोटिंग कराने के लिए मैजिस्ट्रेट के रूप में एक मास्टर ट्रेनर, सहयोगी के रूप में एक कार्यपालक सहायक और सुरक्षाकर्मी प्रतिनियुक्त रहेंगे. प्रत्येक अनुमंडल को एक वैन प्रदान किया जाएगा जो रोस्टर के अनुसार सभी विधानसभा के प्रत्येक बूथ का भ्रमण करेंगे. डीईओ कम डीएम ने विधानसभावार अनुश्रवण और परिचालन के लिए नोडल पदाधिकारी प्रतिनियुक्त करने और रूट चार्ट बनाने का आदेश दिया है. वहीं इवीएम के परिभ्रमण में चुनाव आयोग के एसओपी का सख्ती से अनुपालन का निर्देश दिया है. उन्होंने सभी अनुमंडल को इवीएम भंडारण के लिए डबल लॉक वाला स्ट्रॉन्ग रूम बनाने और सुरक्षा बल प्रतिनियुक्त करने का आदेश दिया है.

मास्टर ट्रेनर और कार्यपालक सहायकों का हुआ उन्मुखिकरण

मोबाईल डोमेस्ट्रेशन वैन पर विधानसभा वार प्रतिनियुक्त किए गए मास्टर ट्रेनर और कार्यपालक सहायकों का सोमवार को निर्वाचन शाखा में उन्मुखिकरण आयोजित किया गया. डीवाईईओ जावेद एकबाल ने बताया कि चुनाव आयोग द्वारा इवीएम जागरुकता पर देशव्यापी अभियान चलाया जा रहा है. इसका लक्ष्य जनता को इवीएम के प्रयोग से यूजटू करना. वीवीपैट की पर्ची से अपना वोट जांचने और परखने का मौका देकर उनकी विश्वसनीयता को मजबूत करना है. उन्होंने इवीएम का हैंडस ऑन कराने के साथ ही उसके हैंडलिंग, परिचालन और मूवमेंट में सावधानियां और एसओपी से अवगत कराया. बताया कि बूथ पर वोटिंग के दौरान पंजी पर मतदाता के हस्ताक्षर लिए जाएंगे. प्रत्येक दिन कुल डाले गए मतों की गिनती, फोटोग्राफ आदि के प्रतिवेदन संबंधित नोडल के माध्यम से डीएम द्वारा आयोग को प्रेषित की जाएगी.

ट्रेनिंग-अवेयरनेस की मशीनें होंगी ईस्तेमाल

श्री एकबाल ने बताया कि इस अभियान के लिए ट्रेनिंग-अवेयरनेस के लिए पृथक की गयी मशीनों का ही प्रयोग होगा. इसके लिए जिले को प्राप्त कुल मशीनों में से 152 सेट बीयू, सीयू और वीवीपैट को चिन्हित कर पृथक किया गया है. उन मशीनों को आयोग के विशेष पोर्टल इएमएस-0.2 पर मार्क कर दिया गया है. जबकि उसकी सूची राजनैतिक दलों को भी उपलब्ध करा दी गयी है. उन सभी मशीनों पर ट्रेनिंग-अवेयरनेस का स्टिकर और डमी बैलेट पेपर और सिम्बाॅल लोड किए जा चुके हैं. इन मशीनों का प्रयोग केवल प्रदर्शन, जागरूकता और प्रशिक्षण के लिए ही किया जाएगा.