प्रेमानन्द महाराज के बताए हुए तरीके से भोजन किया जाए, सभी बीमारी दूर हो जाएगी!

प्रेमानन्द महाराज के बताए हुए तरीके से भोजन किया जाए, सभी बीमारी दूर हो जाएगी!

जीवन मंत्र

मथुरा: खानपान हमारी सेहत पर बहुत प्रभावी है। आप क्या खाते हैं, किस तरह खाते हैं.. उसकी प्रक्रिया उसका प्रभाव हमारे शरीर पर दिखने लगता है। वृंदावन वाले प्रेमानंद महाराज ने अपने सत्संग में इस समस्या का समाधान बताया है। उनका कहना था कि रोगमुक्त रहने के लिए अधिक या कम खाना चाहिए। आप भी सब कुछ जानते हैं।

प्रेमानंद महाराज कहते हैं कि हमें हल्का भोजन करना चाहिए। कम भोजन करने से आत्मबल बढ़ता है। महाराज जी ने कहा कि हल्का और स्वस्थ शरीर बहुत जरूरी है अगर नहीं तो आप आने वाले समय में अपना वजन नहीं उठ पाएंगे।

प्रेमानंद महाराज बताते हैं कि 24 घंटे में एक व्यक्ति को सिर्फ 2 से 4 रोटी ही खानी चाहिए, यह काफी है. खुद के खानपान में एक सीमा रखनी चाहिए. वो बताते हैं कि अधिक पौष्टिक पदार्थ आपसे पच नहीं पाएगा और आपकी आंतें खराब हो जाएगी.

महाराज प्रेमानंद ने खाना खाने का एक सिद्धांत बताया. उन्होंने बताया कि पेट में एक हिस्सा खाना, एक हिस्सा पानी और लगभग आधा हिस्सा वायु के लिए रहने दीजिए. ऐसा करने से आपकी ऊर्जा शक्ति बढ़ेगी.

खाना खाने की कैपिसिटी और उससे होने वाली समस्याओं के बारे में प्रेमानंद महाराज ने बताया कि हमें हमेशा अपनी भूख से कम ही खाना चाहिए. ऐसा करने से हम अपच, पेट फूलना और पेट में एसिड बनने जैसी समस्याओं से काफी दूर रहेंगे और साथ ही ऐसा करने से हम लंबे समय तक स्वस्थ भी रहेंगे.