छपरा में दो माह के अंदर दूसरी बार शरारती तत्वों ने तोड़ी की बाबा साहब की प्रतिमा

छपरा

छपरा। जिले के एकमा थाना क्षेत्र के पचुआ पंचायत के चकमीरा गांव में रविवार की देर रात अज्ञात शरारती तत्वों ने संविधान निर्माता बाबा साहब डॉ भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया. सोमवार की सुबह जब गांव के लोगों ने क्षतिग्रस्त प्रतिमा को देखा, तो अपनी नाराजगी जताते हुए रोष पूर्ण प्रदर्शन किया. मामले में चकमीरा गांव के ही अमन कुमार के द्वारा एकमा थाने में आवेदन देकर शरारती तत्वों के विरुद्ध विधिक कार्रवाई किए जाने की मांग की है.

बताया गया है कि रविवार को दिन में संविधान दिवस के अवसर पर चकमीरा गांव में क्षेत्र के लोगों द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित कर संविधान निर्माता डॉ अंबेडकर की प्रतिमा पर फूलमाला अर्पित कर उनके प्रति सम्मान जताया गया था. वहीं रात में कुछ शरारती तत्वों ने समाज में द्वेष फैलाने के उद्देश्य से डॉ अंबेडकर की प्रतिमा की उंगली, आंख व नाक को क्षतिग्रस्त कर दिया.
बताया गया है कि लगभग दो माह पहले भी इसी अंबेडकर प्रतिमा को अज्ञात शरारती तत्वों द्वारा क्षतिग्रस्त कर दिया गया था. इसके बाद गांव के लोगों द्वारा प्रतिमा की मरम्मत करके रंग रोगन किया गया था.

रविवार को संविधान दिवस के अवसर पर बाबा साहब को संविधान निर्माण में उनके योगदान को याद किया गया. लेकिन समाज में द्वेष फैलाने के उद्देश्य से शरारती तत्वों द्वारा रविवार की रात को दोबारा इस प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया गया. गांव के लोगों का आरोप है कि पुलिस अगर दो माह पहले इस प्रतिमा के क्षतिग्रस्त होने की घटना में कार्रवाई की होती, तो शायद इस वारदात की पुनरावृत्ति नहीं हुई होती.

उधर भाजपा नेता राजन तिवारी सहित विभिन्न राजनीतिक व सामाजिक संगठनों से जुड़े लोगों ने चकमीरा गांव में पहुंचकर दूसरी बार अंबेडकर की प्रतिमा क्षतिग्रस्त किए जाने की घटना की तीव्र निंदा करते हुए पुलिस प्रशासन से शरारती तत्वों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की मांग की गई है.

बहरहाल, मामले में चकमीरा गांव निवासी अमन कुमार के द्वारा एकमा थाने में अज्ञात शरारती तत्वों के विरुद्ध अपराध की संबंधित धाराओं में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. पुलिस अवर निरीक्षक उमाचंद शर्मा द्वारा मामले की जांच-पड़ताल की जा रही है.