आपके परिवार को सुरक्षित रखने वाले टॉप 10 टिकटॉक फीचर्स

इस समाचार को शेयर करें

टेक्नोलॉजी डेस्क : आज के माहौल में जबकि टैक्‍नोलॉजी का प्रसार तेजी से बड़े पैमाने पर हो रहा है, ऐसे में काफी उम्र से ही इसका इस्‍तेमाल भी होने लगा है। भारत की नई डिजिटल पीढ़ी पहले के मुकाबले इसमें कहीं ज्‍यादा दक्ष हो चुकी है जबकि उनके अभिभावक अभी भी जूझ रहे हैं। IAMAI की रिपोर्ट के मुताबिक, 16 से 29 साल की उम्र के युवा यूज़र्स इंटरनेट का सबसे ज्‍यादा इस्‍तेमाल कर रहे हैं।

जेन जेड और मिलेनियल के बीच सबसे ज्‍यादा लोकप्रियता हासिल कर चुकी ऍप का एक बेहतरीन उदाहरण टिकटॉक है। इसकी क्रिएटिव एक्‍सेसिबिलिटी और आसानी से समझ में आने वाले कन्‍सेप्‍ट के चलते, टिकटॉक आज भारत में लाखों लोगों का ध्‍यान आकर्षिक कर चुकी है। युवाओं के बीच इसकी लोकप्रियता और आकर्षक के चलते, टिकटॉक ने यह सुनिश्चित किया है कि यूज़र्स के पास व्‍यापक रूप से सुरक्षा फीचर्स उपलब्‍ध हैं जो उन्‍हें सुरक्षित रखें और साथ ही, उनके मनोरंजन की राह में बाधक न हों।

टिकटॉक का प्रयोग करते हुए आप खुद को तथा अपने किशोरों को इन 10 बातों का पालन करते हुए सुरक्षित रख सकते हैं-
1. एज गेट – इस फीचर के चलते केवल 13 वर्ष और अधिक आयु के यूज़र्स को की एकाउंट क्रिएट करने की अनुमति मिलती है, इस तरह यह कम उम्र के बच्‍चों को इस प्‍लेटफार्म का इस्‍तेमाल करने से रोकता है।
2. स्‍क्रीन टाइम मैनेजमेंट – यह यूज़र्स को एप्‍लीकेशन पर बिताए जाने वाले समय को 40, 60, 90, 120 मिनट के लिए लिमिट करने की अनुमति देता है। इस निर्धारित सीमा से अधिक समय होने पर यूज़र्स को दोबारा अपना पासवर्ड दर्ज करना होता है।
3. रेस्ट्रिक्‍टेड मोड – यह फीचर मशीन-लर्निंग आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस की मदद से उम्र के लिहाज से अनुपयुक्‍त कन्‍टेंट को फिल्‍टर कर अवयस्‍कों को सुरक्षित रखता है। यह एकाउंट सैटिंग वै‍कल्पिक है और इसे इस कारण से उपलब्‍ध कराया गया है कि यूज़र्स जिस कन्‍टेंट को देखते और प्राप्‍त करते हैं, उस पर नियंत्रण रख सकें। इसे एक बार सलेक्‍ट करने के बाद, पासवर्ड दर्ज करने के उपरांत ही बदला जा सकता है।
4. इन-ऍप सुसाइड प्रीवेंशन – यह यज़र्स को इन-ऍप सुसाइड रिसोर्स पेज पर ले जाता है जो यूज़र्स को टिप्‍स तथा हॉटलाइंस की जानकारी देती है जिनके माध्‍यम से वे मदद ले सकते हैं।
5. कमेंट फिल्‍टर-फीचर – यह यूज़र्स को कमेंट्स में से अधिकतम 30 कीवर्ड्स की मदद से, इंग्लिश में तथा यूज़र की स्‍थानीय भाषा में अपने बारे में बताने की अनुमति देता है। इस लिस्‍ट को कभी भी बदला जा सकता है।
6. फैमिली पेयरिंग – डिजिटल वैलबींग मोड के तहत् फैमिली पेयरिंग की मदद से, पेरेंट्स अपने टीनेजर के लिए टिकटॉक पर स्‍क्रीन टाइम को लिमिट कर सकते हैं, यह रेस्ट्रिक्‍टेड मोड को इनेबल करता है और डायरेक्‍ट मैसेजेस को भी सीमित करता है, जिससे पेरेंट या गार्जियन टिकटॉक पर अपने किशोर उम्र के बच्‍चों की गतिव‍िधियों पर नियंत्रण रख सकें।
7. इन-ऍप रिपोर्टिंग – इन इन-ऍप रिपोर्टिंग फीचर की मदद से, यूज़र्स उन वीडियो के बारे में रिपोर्ट कर सकते हैं जो उन्‍हें कम्‍युनिटी गाइडलाइंस के विरुद्ध लगते हैं। इस फीचर की मदद से यूज़र्स को अपने सरोकारों को लेकर आवाज़ उठाने तथा अनुचित कन्‍टेंट को रिपोर्ट करने में मदद मिलती है। वैश्विक महामारी के दौरान, टिकटॉक ने इन-ऍप रिपोर्टिंग फीचर को और मजबूत किया है और अब यूज़र्स किसी भी प्रकार की गलतफहमी पैदा करने वाली सूचना को भ्रामक जानकारी की श्रेणी में रिपोर्ट कर सकते हैं।
8. प्राइवेसी सैटिंग्‍स – यूज़र्स कर सकते हैं-
o यह तय कर सकते हैं कि कौन उन्‍हें फौलो कर सकते हैं
o यह तय कर सकते हैं कि कौन उन्‍हें कमेंट भेज सकते हैं
o यह तय कर सकते हैं कि कौन उनके वीडियो पर रिएक्‍ट कर सकते हैं
o यह तय कर सकते हैं कि कौन डुएट में भाग ले सकते हैं
o यह तय कर सकते हैं कि कौन उन्‍हें मैसेज भेज सकते हैं
o अवांछित कन्‍टेंट को डाउनलोड करने से बच सकते हैं
o ब्‍लॉक लिस्‍ट को क्रिएट और एडिट कर सकते हैं

9. डिवाइस मैनेजमेंट – इस फीचर की मदद से, टिकटॉक यूज़र्स टिकटॉप ऍप से ही, दूसरे किसी भी डिवाइस पर अपने एकाउंट को हटा सकते हैं या सेशन समाप्‍त कर सकते हैं जिससे उनके एकाउंट की सुरक्षा बेहतर बनती है।
10. रिस्‍क वॉर्निंग टैग – यह फीचर दर्शकों को यह सूचित करता है कि संभवत: वीडियो आमजन के लिए वांछनीय नहीं है

जिम्‍मेदार टैक्‍नौलॉजी कंपनी होने के नाते, टिकटॉक ऑनलाइन सुरक्षा के बारे में अपनी प्रतिबद्धता को लेकर काफी सक्रिय है और यह सकारात्‍मक इन-ऍप माहौल को बढ़ावा देती है क्‍योंकि हम अपने प्‍लेटफार्म से जुड़े प्रत्‍येक यूज़र को महत्‍वपूर्ण मानते हैं। यूज़र की सेफ्टी और वैलबींग का काफी महत्‍व है और हम यह सुनिश्चित करने की दिशा में काफी काम कर रहे हैं कि यूज़र्स के पास किसी भी विषय और ऐसे कन्‍टेंट पर आपत्ति करने के पर्याप्‍त टूल्‍स उपलब्‍ध हों जिन्‍हें वे कम्‍युनिटी गाइंडलाइंस का उल्‍लंघन समझते हैं। और जानकारी के लिए हम https://www.tiktok.com/en/safety पर हमारे सेफ्टी सेंटर को वि‍ज़‍िट करने की सलाह देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!