VelentineDay Special: अपने प्यार के लिए 22 साल तक पहाड़ तोड़ते रहे दशरथ मांझी

इस समाचार को शेयर करें
कहा जाता है कि लोग अपने प्यार को खोकर क्या कुछ नहीं करते, यहां तक कि आत्महत्या कर लेते हैं. लेकिन गया के वजीरगंज प्रखंड के गेहलौर घाटी के दशरथ मांझी ने अपने प्यार के खोने पर ना आत्महत्या की ना ही शायरों के शायरी पढ़कर गम को भुलाया. मांझी ने अपने प्यार को खोकर 22 वर्ष में पहाड़ काटकर सड़क बना दिया. लोग दशरथ मांझी के प्यार को मिसाल मानते हैं और उस रास्ते को प्रेम पथ कहते हैं. गेहलौर की घाटी में आज सड़क बिजली दिख रही है. 4 दशक पहले सिर्फ जंगल ही जंगल था.
Related image
पहाड़ से गिरी थी पत्नी 
बताया जाता है कि दशरथ मांझी का बाल विवाह हुआ था. वह गांव के बड़े व्यक्ति के यहां हल चलाते थे और उसी से उनका परिवार चलता था. बड़े होने पर गवना हुआ उनकी पत्नी फुगिनिया घर आ गई. फुगिनिया हर रोज मांझी को खाना पहुचाने जाती थी. एक रोज फुगिनिया पहाड़ पर खाना लेकर चढ़ रही थी. उसी क्रम में उसका पैर फिसला और वो गिर गई. कुछ दिन बाद फुगिनिया देवी का निधन हो गया. तब उनके बड़े बेटे भागरथी मांझी दस वर्ष के थे.
Related image
पागल कहते थे लोग
पत्नी की मौत के बाद दशरथ मांझी काफी दिनों तक काम पर नहीं गए. वो विचार में लगे रहते थे कि अगर सड़क रहती तो मेरी पत्नी उस पार मुझे आसानी से आकर खाना पहुंचा देती और कोई हादसा भी नहीं होता. उन्होंने अपने पत्नी के प्यार में पहाड़ को तोड़ने की ठानी और 22 सालों की कड़ी मेहनत से पहाड़ को तोड़ कर रास्ता बना डाला. लोग उस क्रम में दशरथ मांझी को पागल कहते थे. पर्वत पुरुष दशरथ मांझी 1972 में पैदल ही रेलवे ट्रैक के किनारे-किनारे चलकर 2 महीने में दिल्ली पहुंच गए थे. 
Image result for बिहार का दशरथ मांझी
सीएम नीतीश ने दिया सम्मान
उन्होंने बिहार के नेता राम सुंदर दास से मुलाकात की थी और पीएम से मिलने दिल्ली गए थे. दशरथ मांझी दिल्ली दिल्ली ये बताने के लिए गए थे कि आने जाने के लिए रास्ता तो बन गया. लेकिन पक्की सड़क निर्माण हो जाने के बाद कई कस्बों और गांव को फायदा होगा. पहली बार बिहार की कुर्सी संभालने के बाद मांझी के काम की बदौलत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उन्हें अपनी कुर्सी पर बिठाया था. बाद में सीएम के प्रयास से दशरथ मांझी के नाम पर उनका गांव, समाधि स्थल, अस्पताल और सड़क बना दिए गए.
Related image
 प्रेम कहानी पर बनी फिल्म 
दशरथ मांझी की सच्ची प्रेम कहानी पर 2015 में फिल्म डायरेक्टर केतन मेहता ने ‘मांझी द माउंटेन मैन’ के नाम से लव स्टोरी फिल्म बनाई. इस फिल्म में अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्धकी हैं. माउंटेन मैन के काम को सलामी देने राजनेता से लेकर अभिनेता तक उनके गांव के गेहलौर घाटी आते रहते हैं. आज वेलेंटाइन डे पर इस जुनूनी व्यक्ति को एक बार जरूर याद करना चाहिए.
Ganpat Aryan

Ganpat Aryan

Multimedia Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!