केवल उपकरणों को लगा देने से ही सुरक्षा व्यवस्था नहीं सुधरेगी: महानिदेशक

इस समाचार को शेयर करें

वाराणसी : केवल सीसीटीवी कैमरे और लगेज स्केनर लगा देने से ही सुरक्षा व्यवस्था नहीं सुधरेगी। उक्त बातें रेलवे सुरक्षा बल के महानिदेशक( रेलवे बोर्ड) अरुण कुमार ने मंगलवार को कही। वह मंडल रेल प्रबंधक विजय कुमार पंजियार, शाखाधिकारियों एवं रेलवे सुरक्षा बल के अधिकारियों एवं वरिष्ठ निरीक्षकों के साथ समीक्षा बैठक में बोल रहे थे। इसके पहले महानिदेशक ने 5 बुलेट और 07 अपाची मोटर साईकिल वाराणसी मंडल को प्रदान किया, जिसे मंडल रेल प्रबंधक विजय कुमार पंजियार के साथ हरी झंडी दिखाकर रेलवे सुरक्षा बल के जवानों को रवाना किया। महानिदेशक ने कहा कि वाराणसी परिक्षेत्र में वह पहले भी वे विभिन्न पदों पर काम कर चुके हैं और भलीभांति परिचित हैं। स्टेशनों की सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता करने के लिए रेलवे बोर्ड द्वारा स्टेशन सिक्योरटी प्लान दिया गया है, जिसका संज्ञान लेकर अनुपालन करें । उन्होंने कहा कि केवल सीसीटीवी कैमरे और लगेज स्केनर लगा देने से ही सुरक्षा व्यवस्था नहीं सुधरेगी । इन उपकरणों की व्यवस्थित तरीके से उपयोग भी सुनिश्चित करना होगा। स्टेशनों के प्रवेश एवं निकास द्वार का निर्धारण एवं अनधिकृत रास्ते पर व्यापक प्रतिबन्ध भी आवश्यक है । उन्होंने कहा कि बहुत प्रयास के बाद भी चेनपुलिंग की घटनाएं कम नहीं हो रहीं है । उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री के साथ सादात स्टेशन पर चेनपुलिंग की घटना में फायरिंग और आगजनी का उदाहरण देते हुए समझाया कि सबसे पहले चेनपुलिंग वाले स्थानों की पहचान करें, फिर उसके कारण का पता लगाकर उस क्षेत्र में काउंसिलिंग करें । समझा-बुझाकर समस्याओं को सुलझाने से चेनपुलिंग की घटनाओं पर रोक लगाई जा सकती है। रेलवे के कई क्षेत्रों में इस प्रकार से कार्यवाही करने पर बड़ी सफलता मिली है। बड़े अपराधों को रोकने के लिए सबसे पहले छोटे अपराधों को रोकना होगा। छोटी घटना करने वाले अपराधियों को उचित दंड और मार्ग दर्शन देकर उन्हें अपराध से दूर करने से यह संभव हो सकेगा । उन्होंने रेलवे में आउट सोर्शिंग के जरिये आने वाले कर्मचारियों की लिस्टिंग और परिचय पत्र जारी करने का निर्देश दिया । उन्होंने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के उपकरणों का सही प्रकार से उपयोग करने पर बल दिया और कहा कि किसी घटना या अपराध को होने से रोका जा सके । यह नहीं किसी घटना या अपराध के लिए केवल सबूत जुटाए जाए । इसके पहले महानिदेशक ने मंडुवाडीह रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट का निरीक्षण किया और डीरेका में पूर्वोत्तर रेलवे एवं उत्तर रेलवे तथा डीरेका के  रेलवे सुरक्षा बल के अधिकारीयों एवं कर्मचारियों के साथ संयुक्त सम्मेलन में रेलवे सम्पतियों एव रेल यात्रियों की सुरक्षा,कर्मचारी हित तथा विभागीय सामंजस्य आदि विषयों पर चर्चा की और रेलवे सुरक्षा बल जवानों के हितों को देखते हुए उनमें व्यापक सुधार का निर्देश दिया । इसके पूर्व मंडल सुरक्षा आयुक्त ने पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से यात्रियों की  सुरक्षा एवं बाहरी हस्तक्षेप रोकने के लिए किये जा रहे कार्यों की जानकारी दी। इस अवसर पर आरपीएफ के प्रधान मुख्य सुरक्षा आयुक्त अतुल कुमार श्रीवास्तव, अपर मंडल रेल प्रबंधक(इन्फ्रा) प्रवीण कुमार,अपर मंडल रेल प्रबंधक (परिचालन) एस.पी.एस.यादव, मंडल सुरक्षा आयुक्त ऋषि पाण्डेय, वरिष्ठ मंडल वित्त प्रबंधक प्रतिक सिंह, वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक संजीव शर्मा,वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक रोहित गुप्ता, वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक(सामान्य) ए.के.सक्सेना, वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर सत्येन्द्र यादव,वरिष्ठ मंडल सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर (प्रथम) आशुतोष पाण्डेय , वरिष्ठ मंडल सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर-2 त्रयम्बक तिवारी,वरिष्ठ मंडल समग्री प्रबंधक नरेश कुमार,वरिष्ठ मंडल संसाधन एवं आंकड़ा प्रबंधक श्री बसंत राय , वरिष्ठ मंडल यांत्रिक इंजीनियर (कैरेज एंड वैगन) बी.पी.सिंह,  मंडल कार्मिक अधिकारी समीर पॉल समेत वाराणसी मंडल के सभी सहायक सुरक्षा आयुक्त एवं निरीक्षक उपस्थित थे।

                                              

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!