रेलवे की बड़ी कार्रवाई: अवैध टिकट के 4197 मामलों में 4598 दलाल गिरफ्तार

इस समाचार को शेयर करें

29879 यात्रा शेष 72784672 रूपये व 161064 यात्रा समाप्त 429758744 रूपये की टिकट बरामदगी

– 21711 यूजर आइ डी को आईआरसीटीसी ने किया ब्लाक

गोरखपुर : रेलवे सुरक्षा बल के महानिदेशक अरूण कुमार के निर्देश पर रेलवे सुरक्षा बल द्वारा वर्ष 2019 के दौरान अवैध रेल टिकटों के करोबार, अवैध वेंडरों, खतरे की जंजीर के दुरूपयोग, रेल समपत्ति की चोरी, अतिक्रमण आदि के विरूद्व सघन अभियान चलाया गया। इसके अतिरिक्त भूले-बिसरे महिलाओं, बच्चों की बरामदगी एवं दिव्यांग यात्रियों की सहायता के दायित्व के निर्वहन में रेलवे सुरक्षा बल को भारी सफलता मिली है।

अवैध टिकटों का कारोवार करने वालों के विरूद्ध कार्यवाही

भारतीय रेल में कुल 4197 मामले पंजीकृ्त कर 4598 व्यक्तियों की गिरफ्तारी करते हुए 29879 यात्रा शेष टिकटों कीमती रूपये 72784672 एवं 161064 यात्रा समाप्त टिकटों कीमती रूपये 429758744 की बरामदगी के साथ 21711 आईआरसीटीसी यूजर आईडी को ब्लाक किया गया। इसी क्रम में पूर्वोत्तर रेलवे में कुल 282 मामले पंजीकृ्त कर 321 व्यक्तियों की गिरफ्तारी करते हुए 1995 यात्रा षेष टिकटों कीमती रूपये 30602692/- एवं 8233 यात्रा समाप्त टिकटों कीमती रूपये 13309094/- की बरामदगी के साथ जिस यूजर आईडी पर टिकटें बनवाई गई थी। उन 1960 आईआरसीटीसी यूजर आईडी को आईडी को ब्लाक कराने का कार्य किया गया है।

यात्री सामानों की सुपूर्दगी-
भारतीय रेलवे में 13204 यात्रियों के छूटे सामानों जिनकी कीमत रू 485818444/- थी की बरामदगी की गयी है। इसी क्रम में पूर्वोत्तर रेलवे में 303 यात्रियों के छूटे सामानों कीमत रू 5893711/- की सुपूर्दगी उन सामानों के स्वामी को दी गयी है।
मानवता के लिये रेलवे सुरक्षा बल की प्रतिबद्धता (जीवन की सुरक्षा )-
भारतीय रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्धारा 235 महिलाएॅ एवं 260 पुरूष कुल 495 यात्रियों की जीवन रक्षा की गई हैं जबकि पूर्वोत्तर रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्धारा 03 महिलाएॅ एवं 05 पुरूष कुल 08 यात्रियों की जीवन रक्षा की गई हैं तथा चलती गाडियों एवं प्लेटफार्मो पर गर्भवती महिलाओं के प्रसव कराने मे रेलवे सुरक्षा बल के महिलाकर्मियों द्वारा अतुलनीय योगदान दिया गया है।
भूले-बिसरे बच्चों का बचाव-
भारतीय रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्धारा 446 बच्चों को मानव तस्करों से बचाया गया एवं 68 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है इसके अतिरिक्त 16011 भूले-बिसरे बच्चों बचाव किया गया हैं। इसी क्रम में पूर्वोत्तर रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्धारा 598 भूले बिसरे बच्चों का बचाव कर नियमानुसार उनके अभिभावकों अथवा समाजसेवी संस्थाओं को आवष्यक कार्यवाही हेतु सौंपा गया।
एनडीपीएस एक्ट के अन्र्तगत कार्यवाही-
भारतीय रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा वर्ष के दौरान भारतीय रेल मे 490 मामले पंजीकृत कर रू0 128365031/-कीमत की मादक द्रव्यों की बरामदगी कर 427 अभियुक्तो की गिरफ्तारी की गई है। जबकि पूर्वोत्तर रेलवे में वर्ष 2019 के दौरान 09 मामले पंजीकृत कर 950 ग्राम एल्प्राजोलम नषीली औषधि की बरामदगी कर 09 अभियुक्तो की गिरफ्तारी की गई है।
अवैध रूप से वन्य जीवों की तस्करी करने वालो के विरूद्ध कार्यवाही-
भारतीय रेलवे में वन्य जीवों की तस्करी के 39 मामलों मे रू0 5312500/- की बरामदगी के साथ 36 अवैध तस्करो को गिरफ्तार किया गया।
एलार्म चेन पुलिंग-
भारतीय रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा अवैध रूप से खतरे की जंजीर खीचने वाले 45784 अभियुक्तों को गिरफ्तार कर विधिक कार्यवाही की गई है। इसी क्रम में पूर्वोत्तर रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा अवैध रूप से खतरे की जंजीर का दुरूपयोग करने वाले 2582 अभियुक्तो को गिरफ्तार कर विधिक कार्यवाही की गई है।

रेलवे मे अतिक्रमण अभियान-
भारतीय रेलवे में अतिक्रमण के 1102 अभियानों मे रेलवे सुरक्षा बल द्वारा रेल परिसर से 4937 अतिक्रमण हटाये गये। इसी क्रम में पूर्वोत्तर रेलवे द्वारा 27 अभियानों मे रेलवे सुरक्षा बल द्वारा रेल परिसर से 709 अतिक्रमण हटाये गये।

कोयले की चोरी
भारतीय रेल मे कोयले की चोरी के 247 मामले प्रकाष मे आने पर उनका पंजीकरण कर 246 मामलों का रेसुब द्वारा उद्भेदन किया गया है, जिसमे 444 व्यक्तियो की गिरफ्तारी की गई हैं।
पेट्रोलियम पदार्थो की चोरी के विरूद्व अभियान-
भारतीय रेल मे पेट्रोलियम पदार्थो की चोरी के 14 मामले प्रकाश मे आने पर उनका पंजीकरण कर 12 मामलों का रेलवे सुरक्षा बल द्वारा उद्भेदन किया गया है, जिसमे 56 व्यक्तियो की गिरफ्तारी की गई हैं।
बुक सामानों की चोरी के विरूद्व अभियान-
भारतीय रेल मे बुक सामानों की चोरी के 469 मामले प्रकाष मे आने पर उनका पंजीकरण कर 298 मामलों का रेलवे सुरक्षा बल द्वारा पर्दाफाश किया गया है, जिसमे 704 व्यक्तियो की गिरफ्तारी की गई हैं। जबकि पूर्वोत्तर रेलवे में बुक सामानों की चोरी के 14 मामलों में 08 मामलों का रेलवे सुरक्षा बल द्वारा पर्दाफाष कर 20 व्यक्तियो की गिरफ्तारी की गई हैं।
रेल सामग्री की चोरी के विरूद्व अभियान
भारतीय रेल मे रेल सामग्री की चोरी के 3289 मामले प्रकाश मे आने पर उनका पंजीकरण कर 2786 मामलों का रेलवे सुरक्षा बल द्वारा उद्भेदन किया गया है, जिसमे 4592 व्यक्तियो की गिरफ्तारी की गई हैं। इसी क्रम में पूर्वोत्तर रेलवे मे रेल सामग्री की चोरी के 133 मामले प्रकाश मे आने पर उनका पंजीकरण कर 126 मामलों का रेसुब द्वारा उद्भेदन किया गया है, जिसमे 189 व्यक्तियो की गिरफ्तारी की गई हैं।
भारतीय दण्ड संहिता के अन्तर्गत पंजीकृत मामलो मे रेलवे सुरक्षा बल द्वारा पर्दाफाश
भारतीय रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा भारतीय दण्ड संहिता के अन्तर्गत दर्ज मामलो मे 5030 मामलो का उद्भेदन कर 5902 अभियुक्तों को गिरफ्तार कर विधिक कार्यवाही कराई गई है। जबकि पूर्वोत्तर रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा भारतीय दण्ड संहिता के अन्तर्गत दर्ज मामलो मे 68 मामलों का पर्दाफाश कर 109 अभियुक्तों को गिरफ्तार कर विधिक कार्यवाही कराई गई है।
रेलवे सुरक्षा बल हेल्पलाईन 182 एवं ट्यूटर पर कार्यवाही
भारतीय रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा हेल्पलाईन पर प्राप्त 60453 षिकायत एवं ट्यूटर पर प्राप्त 31851 षिकायतों का निस्तारण कर यात्रियों को संतुष्ट किया गया जबकि पूर्वोत्तर रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा सुरक्षा हेल्पलाईन 182 पर प्राप्त 193 षिकायत एवं ट्यूटर पर प्राप्त 1023 षिकायत का तत्परतापूर्वक निस्तारण कर यात्रियों को संतुष्ट किया गया।
टिकट चेकिंग-
भारतीय रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा वाणिज्य विभाग के सहयोग मे 157354 अभियानो मे 120963 रेसुब को लगाकर 5415739 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया एवं उनसे दण्डस्वरूप रूपये 2156553964/- की वसूली कर रेल राजस्व मे वृद्धि कराई गई। इसी क्रम में पूर्वोत्तर रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा वाणिज्य विभाग के सहयोग मे 1217 अभियानों रेलवे सुरक्षा बल कर्मियों ने 70400 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया एवं उनसे दण्डस्वरूप रूपये 31521269/- की वसूली कर रेल राजस्व मे वृद्धि कराई।
पत्थरबाजी की घटना-
भारतीय रेलवे में वर्ष 2019 में 1138 पत्थरबाजी की घटनाओं में 659 मामलों को सम्बन्धित थाना मे पंजीकरण कराकर 404 अभियुक्तो की गिरफ्तारी की गयी जबकि पूर्वोत्तर रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा 22 पत्थरबाजी की घटनाओं मे 22 मामलो का सम्बन्धित थाना मे पंजीकरण कराकर 11 अभियुक्तो की गिरफ्तारी कराई गई है।

महिला यात्रियो की सुरक्षा एवं सुविधा-
भारतीय रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा महिला यात्रियों की सुरक्षा के दृष्टिगत विषेष अभियान चलाकर 5938 मामलो को पंजीकृत कर 7151 व्यक्तियों की गिरफ्तारी की गयी एवं उनसे दण्ड स्वरूप रू0 685890/- की वसूली की गयी जबकि पूर्वोत्तर रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा महिलाओं के लिये आरक्षित कोचों मे अवैध रूप से यात्रा करने वाले 142 व्यक्तियों को अभियोजित किया कर उनसे दण्ड स्वरूप रू0 13500/- की वसूली की गयी।
दिव्यांग यात्रियो की सुविधा-
भारतीय रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा 03 दिसम्बर, 2019 को अन्तर्राष्ट्रीय दिव्यांग जन दिवस पर अभियान चलाकर दिव्यांग यात्रियों हेतु आरक्षित कोचों में अवैध यात्रा के 4788 मामले पंजीकृत कर 5674 व्यक्तियों को गिरफ्तार कर उनसे दण्डस्वरूप रू0 533195/- की वसूली की गयी जबकि पूर्वोत्तर रेलवे में विषेष अभियान चलाकर 111 मामले पंजीकृत कर 111 व्यक्तियों को गिरफ्तार कर उनसे दण्डस्वरूप रू0 10200/- की वसूली की गयी।
आॅपरेषन थ्रस्ट-
भारतीय रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा आपरेशन थ्रस्ट नाम से विशेष अभियान चलाकर 1430 व्यक्यिों को अधोमानक पानी की बोतल की बेचते हुए गिरफ्तार कर उनके 69041 अधोमानक पानी की बोतल बरामद की गयी जबकि पूर्वोत्तर रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा 08 एवं 09 जुलाई, 2019 को आॅपरेषन थ्रस्ट नाम से विषेष अभियान चलाकर 150 व्यक्यिों को अधोमानक पानी की बोतल बेचते हुए गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 8624 अधोमानक पानी की बोतल कीमती रूपये 138580/- की बरामदगी की गयी।
आपरेशन बाक्स –
भारतीय रेलवे में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा दिनांक 06 से 09 अप्रैल, 2019 तक लिज्ड होल्डरों के विरूद्ध अनधिकृत रूप से सामान/पार्सल ले जाने के सम्बंध में 898 एसएलआर को चेक किया गया जिसमें रूपये 8974100/- का सामान की बरामदगी की गयी एवं लिज्ड होल्डरों के विरूद्ध रूपये 268594/- का जुर्माना लगाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!