शराब तस्करों से पटना मद्य निषेध की टीम ने की पूछताछ

इस समाचार को शेयर करें

– एफआइआर दर्ज कर पुलिस ने तस्करों को भेजा जेल

@संजीवनी रिपोर्टर
मांझी(सारण) : मांझी पुलिस के द्वारा घोरहट गांव से जब्त शराब के मामले में थानाध्यक्ष ओम प्रकाश चौहान के लिखित बयान पर प्राथमिकी दर्ज की गई है.दर्ज प्राथमिकी में ट्रक के मालिक व शराब के सप्लायर,ड्राइवर हरियाण के भिवानी जिले के बोंदकला थाना क्षेत्र के मोहित कुमार, विष्णु कुमार के अलावा प्राप्तकर्ता घोरहट गांव निवासी पिंटू चौधरी,बबलू चौधरी तथा गाड़ी के अनलोड करने वालो में अंकित शर्मा तथा विकास शर्मा के अलावा पांच मोबाइल नम्बरों के विरुद्ध प्राथमिक दर्ज की गयी है.

 

गिरफ्तार ड्राइवर तथा दो अनलोड करने वाले को जेल भेज दिया.पुलिस ने शराब के सप्लाई तथा और प्राप्तकर्ता को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है.हांलकि दूसरे दिन भी शराब के प्राप्तकर्ता पुलिस की गिरफ्तर से बाहर है.हालांकि पुलिस उन्हें जल्द गिरफ्तार करने का दावा कर रही है.

 

बड़ी मात्रा में शराब बरामद होने के कारण मद्य निषेध की टीम पहुची मांझी

ट्रक से शराब बरामद होने के मामले में मद्य निषेध की टीम पटना से बुधवार को मांझी थाने पहुच कर गिरफ्तार चालक तथा ट्रक को खाली करने वाले के गहन पूछताछ की.पूछताछ के दौरान खाली करने वाले दोनो ने बताया कि घोरहट गांव के पिंटू चौधरी ने लेबर का काम करने के पांच पांच सौ रुपये तथा खाना खिलाने की बात कह कर लाया था.यहां आने के बाद उसके गोदाम में ट्रक लगी थी.ट्रक उपर प्लास्टिक के दाने के बोरा लदा हुआ था.बोरा के अंदर शराब की कार्टून लदी हुई थी.इसी बीच पुलिस पहुच कर गिरफ्तार कर ली.चालक ने पुलिस को कई महत्वपूर्ण जानकारी दी है.उसने बताया कि एक माह पहले भी घोरहट गांव में ट्रक लाया था.पूछताछ में बताया कि चालक ने बताया कि हरियाण से जिन राज्यों में शराबबंदी है यहां से ट्रक से शराब से लेकर जाता हूं.इसके पहले गुजरात कई बार शराब लेकर गया हूं.पहले भी इस मामले में जेल जा चुका हूं.उसने बताया कि इसके पहले चार पांच बार बिहार के पूर्णिया में शराब से भरी ट्रक हरियाण से लेकर आया हूं.

 

मोबाइल की सीडीआर खंगालने में जुटी पुलिस

गिरफ्तार चालक के मोबाइल के सीडीआर पुलिस खनागने में जुटी है.मिली जानकारी के अनुसार चालक के मोबाइल से कई शराब के सप्लायर तथा प्राप्तकर्ता के पहचान हुई है.चालक के मोबाइल से लगातर शराब के सप्लायर तथा आपूर्ति लगातार उसके सम्पर्क में थे.गाड़ी के बिहार में प्रवेश करते है प्राप्तकर्ता सम्पर्क में थे. गाड़ी के मालिक व शराब के सप्लायर गाड़ी में लगे जीपीएस से गाड़ी के मोनेटरिंग कर रहा था.मद्य निषेध की टीम ने मोबाइल था गाड़ी में लगे जीपीएस की एक एक बिंदुओं पर गहनता से जांच की.उसके मोबाइल तथा व्हाट्सएप से जिन लोगो के संपर्क में था उसके मोबाइल की सीडीआर खंगाल रही है.

Ranjit Kumar

Ranjit Kumar

Digital Media Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!