छपरा । जिले के मढौरा थाना क्षेत्र के नेथुआ गांव के निवासी और बीएसएफ में कार्यरत असिस्टेंट कमांडेंट विनय कुमार प्रसाद की भारत-पाक पाक की सीमा पर शहीद होने की खबर मिलते ही बुधवार को मातम छा गया और उनके घर पर गांव वालों की भीड़ जुट गयी। विनय कुमार प्रसाद बीएसएफ में असिस्टेंट कमांडेंट के पद पर कार्यरत थे और वे बीएसएफ की 19 वीं बटालियन में कठुआ में पदस्थापित थे । मंगलवार को पाकिस्तान की सेना के द्वारा दागे गए मोर्टार और स्नाइपर शाॅट दागे जाने से शहीद हो गये । यह खबर बुधवार को परिजनों तथा गांव वालों को मिली । इस खबर के मिलते ही गांव में मातम छा गया और ग्रामीणों की भीड़ शहीद सेना के अधिकारी के घर पर जुट गई । इसकी सूचना पाकर मढौरा के राजद विधायक जितेन्द्र कुमार राय भी उनके घर पहुंचे और परिजनों से मिलकर अपनी शोक संवेदना व्यक्त की और कहा कि यह गर्व की बात है कि देश की रक्षा के लिए हमारे क्षेत्र के जवान ने अपनी जान की कुर्बानी दी है और उनकी कुर्बानी बेजा नहीं जाएगी । शहीद के घर पर सुबह से ही ग्रामीणों के अलावा क्षेत्र के पंचायत प्रतिनिधियों सामाजिक तथा राजनीतिक संगठनों के कार्यकर्ताओं नेताओं की भीड़ लगी हुई है । आज देर शाम तक शहीद जवान का शव गांव पहुंचने की संभावना है ।

गुरनाम सिंह के बाद विनय प्रसाद भी स्नाइपर शॉट के हुए शिकार

21 अक्टूबर, 2016 की सुबह बीएसएफ जवान गुरनाम सिंह हीरानगर सेक्टर के बोबिया में पाकिस्तानी स्नाइपर शॉट से शहीद हो गए थे। इस घटना को आतंकी घुसपैठ में नाकामी के ठीक एक दिन बाद अंजाम दिया गया। गुरनाम सिंह ने अपनी पोस्ट की ओर आते पांच से छह आतंकियों को गोलाबारी कर वापस लौटने को मजबूर कर दिया था। मंगलवार की घटना को भी पाकिस्तान की हताशा से जोड़कर देखा जा रहा है। झज्जर कोटली मुठभेड़ के बाद घुसपैठ के सभी रूट पर निगरानी कड़ी होने के बाद पाकिस्तान आतंकियों को भारतीय सीमा में धकेलने में नाकामयाब रहा है। हालांकि आतंकियों की सीमा पार मौजूदगी और हलचल को लेकर पिछले कई माह से लगातार इनपुट मिलते रहे हैं। मंगलवार को स्नाइपर हमले में सहायक कमांडेंट विनय कुमार शहीद हो गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here