किरण ने ब्लड बैंक व कृष्ण मोहन ने संभाला आइसीयू

इस समाचार को शेयर करें

@संजीवनी रिपोर्टर
छपरा: डॉक्टर किरण ओझा ने संकट काल में ब्लड बैंक की जिम्मेदारी को पूरी ईमानदारी व तत्परता के साथ संभाला और उन्होंने ब्लड की कमी नहीं होने दी। रक्तदान करने वालों को उन्होंने आवश्यक सुरक्षा व बचाव के साथ रक्तदान करने के लिए प्रेरित किया, जिससे ब्लड बैंक में ब्लड की उपलब्धता कायम रही और आपातकालीन कक्ष, प्रसव कक्ष में भर्ती मरीजों को जान बचाने के लिए ब्लड उपलब्ध कराया। इतना ही नहीं कोरोना संकटकाल में करीब 50 थैलेसीमिया के मरीजों को उन्होंने बिना डोनर के ही ब्लड उपलब्ध कराया, जिसमें दो दर्जन ऐसे मरीज हैं, जो निजी नर्सिंग होम में भर्ती थे। इसी तरह इनके पति फिजीशियन चिकित्सक डॉ के एम दुबे ने आईसीयू का कमान संभाल रखे थे और आईसीयू में भर्ती मरीजों का चौबीसों घंटे उपचार करते रहे । यहां आईसीयू में एकमात्र चिकित्सक के रूप में डॉक्टर के एम दुबे पदस्थापित है और 24 घंटे भर्ती मरीजों को इन्हें ही देखना पड़ा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!