छठ पूजा का यह गीत सुनकर आप भी हो जाएंगे भावुक, घरों से दूर रहने वालों को कर रहा है आकर्षित

इस समाचार को शेयर करें

छपरा। महान लोक महापर्व छठ पूजा करीब है । इसकी तैयारी शुरू कर दिया गया है और अभी से ही छठ गीतों की धूम मची हुई । जगह जगह ध्वनि विस्तारक, टीवी, रेडियो, मोबाइल पर बज रहे छठ पूजा के गीत ने माहौल को भक्ति के रंग में डुबोने लगा है । बाजार पर भी छठ का असर दिखने लगा है । दुकानों, शो रूम, कंपनियों ने छठ पूजा का ऑफर लांच कर दिया है । छठ पूजा को लेकर दूसरे राज्यों शहरों में रहने वाले लोग वापस लौटने लगे हैं । छठ पूजा पर रेलवे की ओर से स्पेशल ट्रेन चलायी जा रही है । इस वर्ष छठ पूजा के मौके पर छपरा शहर के युवा कलाकार अभिषेक अरूण ने स्वरचित गीत “हमरो के घरे पहुंचाई द” की काफी धूम मची हुई है ।

वैसे तो, कई सारे गीत बज रहे हैं । छठ पूजा में इस बार अभिषेक अरूण का गीत अपने आप में खास है । एक नए प्रयोग के रूप में शहर के ही अभिषेक अरुण ने अपनी आवाज़ में इस छठ के गीत को लिखा भी है और गाया भी है , साथ ही पूरे वीडियो के निर्देशक भी अभिषेक अरुण ही हैं ।

अभिषेक कहते हैं कि “हमरो के घरे पहुंचाई द..” गीत जब वो लिख रहे थे, तब उनके मन बस एक ही भावना थी कि “हम सभी घरों से बाहर जाते हैं कमाने के लिए, घरों के लिए कुछ करने के लिए , लेकिन काम के धुन में त्योहार और पर्व के समय चाह के भी व्यक्ति अपने घर नहीं जा पाता है । अपने बचपन के साथियों के साथ त्योहार में शरीक नहीं हो पाता है । बिहार के वैसे लोगों के जीवन से ली गयी कहानी है, जिसे इस गीत में मैंने दिखाने की कोशिश की है । ” । गीत संगीत की बात करें तो, ये एक बड़ा प्रयोग है, जिसमें पारंपरिक और आधुनिकता का मिश्रण है । यह एक अलग तरह का माहौल बना रहा है । संगीत निर्देशन किया है बनारस के ही पिता पुत्र के जोड़ी , अजय त्रिपाठी और अप्रतिम त्रिपाठी ने । साउंड रिकार्डिस्ट हैं अजय तिवारी हैं । गाने के वीडियो की बात करें तो छपरा के ही दो युवा कलाकार हैं , पंकज कृपा और प्रदीप पांडेय जिन्होंने अपने प्रशंसनीय अभिनय से गाने की आत्मा के साथ न्याय करते हुए देखने वालों की भावनाओं को छुने का प्रयास किया है । दृश्यों को बख़ूबी कैमरे में उतारने का काम किया है शक्ति डॉस ने । वीडियो की कहानी आकाश अरुण ने लिखा है । फ्रेमज़ोमेनिया के बैनर तले इस गाने को इसके यूट्यूब चैनल पर रिलीज़ किया गया है । पूरे प्रोजेक्ट के डायरेक्टर अभिषेक अरुण ने सभी से इस गीत को सुनने का विशेष आग्रह किया है, ताकी देश विदेश में बैठे हमारे बिहारी भाई बंधु को इस त्योहार में मानसिक रूप से जोड़ा जा सके और यह भी कहा है कि गाना अगर अच्छा लगे तो, उसे अपने बिहारी सगे संबंधियों को शेयर करें, जो बाहर रहते हों ।

महत्त्वपूर्ण बात यह है कि इस पूरे प्रोजेक्ट में किसी से कोई पैसा नहीं लिया गया है । टीम के सदस्यों ने अपने ही जेब खर्च से इस पूरे गाने को बनाया है । सदस्यों में सुशांत सिंह (तकनीशियन), आकाश कपूर(कैमरा असिस्टेन्ट), राहुल (प्रोडक्शन कॉर्डिनेटर) आदि ने सराहनीय काम किया है । सिने कलाकार अखिलेंद्र मिश्र, पशुपति नाथ अरुण , धीरज मिश्र, रितेश सिंह , सुशील कुमार , अश्विनी शुक्ल , लोक गायिका देवी आदि की भूमिका है ।

Ganpat Aryan

Ganpat Aryan

Multimedia Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!