@संजीवनी रिपोर्टर
भागलपुर।बिहार में इस बार नीतीश कुमार मुख्यमंत्री नहीं बनेगें। क्योंकि खुद भाजपा नीतीश को रिटायर करना चाहती है। इस समय नरेंद्र मोदी दो घोड़े की सवारी कर रहे हैं। उक्त बातें एआइएमआइएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने शाहकुंड के अंबेडकर स्टेडियम में रविवार को रालोसपा प्रत्याशी हिमांशु पटेल के पक्ष में चुनावी सभा के दौरान कही।उन्होंने कहा कि पिछले 30 वर्षों से (15 साल राजद का शासन एवं 15 साल जदयू-भाजपा का शासन) बिहार में कोई बदलाव नहीं हुआ है। आज भी शिक्षा, स्वास्थ्य और अन्‍य सेवाएं बदहाल हैं। शिक्षकों की हक मारी जा रही है। बेरोजगारी की समस्या जटिल है। लोग अन्य प्रदेश पलायन करने को मजबूर है।

कांग्रेस ने भी अल्पसंख्यकों को छलने का काम किया है।आज भी हम भागलपुर दंगा को नहीं भूले हैं। जब भागलपुर में दंगा हुआ था तो केंद्र और बिहार में कांग्रेस की ही सरकार थी। कांग्रेस, राजद और जदयू-भाजपा के कार्यकाल में भागलपुर का रेशम उद्योग चौपट हो गया। जिसकी स्थिति आज तक नहीं सुधरी है। भाजपा और कांग्रेस दोनों ने अल्पसंख्यकों को बरगलाने का काम किया है। इसलिए इस बार अल्पसंख्यक एकजुट होकर अपने हक के लिए अपनी एआइएमआइएम, रालोसपा एवं बासपा समर्थित उम्मीदवार को अपना मत दे रही है। उन्‍होंने सुल्‍तानगंज के रालोसपा प्रत्‍याशी हिमांशु पटेल और भागलपुर के रालोसपा प्रत्‍याशी सैयद शाह अली सज्‍जाद आलम के पक्ष में मतदान करने की लोगों से अपील की।उन्‍होंने कहा कि तभी सभी को असली सम्मान मिलेगा।

आम लोगों को एनआसी और एनआरपी नहीं चाहिए उसे बेहतर शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार चाहिए। लेकिन भाजपा इस मुद्दों से भटका कर हिंदू-मुस्लिम करके कौमी एकता भंग करना चाहती है। लेकिन आप लोग किसी से डरें नहीं। बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के बनाए संविधान के अनुसार अपनी बेहतरी के लिए लड़ाई जारी रखें। उन्‍होंने अपनी सभा में कई बार केंद्र और राज्‍य की नीतियों की जमकर आलोचना की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here