सोनपुर व गोदना सेमरिया में कार्तिक पूर्णिमा पर नहीं लगेगा मेला

इस समाचार को शेयर करें

– श्रद्धालुओं से घरों में स्नान करने का प्रशासन ने किया आग्रह

– विधि व्यवस्था व सुरक्षा के मद्देनजर डीएम- एसपी ने जारी किया संयुक्त आदेश

– नदी घाटों को सैनिटाइजेशन कराने व बैरिकेडिंग का दिया निर्देश

@संजीवनी रिपोर्टर
छपरा : अब तक के इतिहास में पहली बार ऐसी परिस्थिति उत्पन्न हुई है कि जिले के सोनपुर व गोदना सेमरिया में कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर लगने वाले ऐतिहासिक मेला का आयोजन घोषित रूप से इस वर्ष नहीं किया जायेगा। इस अवसर पर गंगा सरयू सोन व गंडक नदियों में पवित्र स्नान करने का की परंपरा रही है, लेकिन वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम व बचाव के मद्देनजर जिला प्रशासन ने आम नागरिकों से नदी के बजाय घरों पर ही स्नान करने का अनुरोध किया है

 

और इसके लिए सभी एसडीओ प्रखंड विकास पदाधिकारी अंचल पदाधिकारी उन लोगों को घरों पर स्नान करने के लिए प्रेरित करने का निर्देश दिया गया है, परंतु नदी घाट पर कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर स्नानार्थियों की सुरक्षा व संक्रमण से बचाव के लिए आवश्यक उपाय करने का भी निर्देश दिया गया है। इसको लेकर डीएम सुब्रत कुमार सेन तथा एसपी धूरत सायली सावलाराम ने संयुक्त आदेश जारी किया है।

 

 

डीएम तथा एसपी ने नदी घाटों पर बैरिकेडिंग कराने तथा सैनिटाइजेशन कराने का निर्देश दिया गया है। साथ ही 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों और 60 वर्ष से अधिक उम्र के वृद्ध व्यक्तियों को नदी में स्नान नहीं करने की सलाह दी है। डीएम तथा एसपी ने संयुक्त आदेश में सुरक्षा व विधि व्यवस्था के मद्देनजर जिले के 10 स्थानों पर दंडाधिकारियों के साथ पुलिस पदाधिकारियों को प्रतिनियुक्त किया है। साथ ही जिला स्तर पर नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है। डीएम ने बताया कि कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर जिले में किसी भी तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया जाएगा। साथ ही ध्वनि विस्तारक यंत्र के प्रयोग पर रोक रहेगी। कोरोना वायरस के प्रोटोकॉल का पालन हर हाल में सुनिश्चित करना है। इसका उल्लंघन करने वालों के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम तथा आईपीसी की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी।

 

 

दंडाधिकारी – पुलिस पदाधिकारियों की तैनाती

जिले के 10 प्रमुख स्थानों पर दंडाधिकारियों के साथ पुलिस पदाधिकारियों की तैनाती की गई है, जिसमें मुख्य रुप से सोनपुर के काली घाट पर अपर समाहर्ता डॉक्टर गगन, परीक्षण वरीय उप समाहर्ता बलदेव चौधरी तथा चंदन कुमार के साथ पुलिस निरीक्षक रवि कुमार, पुलिस अवर निरीक्षक रत्नेश्वर कुमार पांडेय, गणेश कुमार, मोहम्मद शाहिद खान, विनोद कुमार सिंह को प्रतिनियुक्त किया गया है।

 

 

हरिहर नाथ मंदिर घाट पर लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी रविंद्र कुमार, वरीय उप समाहर्ता गंगा कांत ठाकुर, ऐश्वर्या कश्यप के साथ पुलिस निरीक्षक बालेश्वर राय, पुलिस अवर निरीक्षक रामाशीष प्रसाद, मनोज कुमार सिंह, विनोद सिंह, पहलेजा घाट पर डीआरडीए निदेशक जनार्दन प्रसाद अग्रवाल, वरीय उप समाहर्ता उपेंद्र ठाकुर, प्रशांत कुमार के साथ पुलिस निरीक्षक उदय प्रताप सिंह, पुलिस अवर निरीक्षक राम बिहारी सिंह, सुभाष ठाकुर, देवेंद्र पांडेय, साधु गाछी पुल घाट पर जिला आपूर्ति पदाधिकारी अरुण कुमार सिंह, जिला शिक्षा पदाधिकारी अजय कुमार सिंह के साथ पुलिस निरीक्षक राजेंद्र राम, पुलिस अवर निरीक्षक सुरेंद्र राय, मिनहाज अहमद, सबलपुर घाट पर जिला कल्याण पदाधिकारी कौशल किशोर पासवान, जिला सहकारिता पदाधिकारी अजय कुमार अलंकार के साथ पुलिस अवर निरीक्षक प्रभाकर भारती, पुलिस अवर निरीक्षक नंद किशोर दास, सहायक पुलिस अवर निरीक्षक मोताय सवैया, गोदना सेमरिया घाट पर जिला पंचायत राज पदाधिकारी मुरली प्रसाद सिंह, वरीय उप समाहर्ता राजू कुमार के साथ पुलिस निरीक्षक रमेश कुमार यादव, सहायक पुलिस अवर निरीक्षक तरुण कुमार, सहायक अवर निरीक्षक आनंद सिंह, मांझी घाट पर भूमि सुधार उप समाहर्ता पुष्पेश कुमार, बाल संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक धर्मवीर सिंह के साथ पुलिस निरीक्षक मंजू कुमारी, पुलिस अवर निरीक्षक देवनंदन प्रसाद,मकेर घाट पर वरीय उप समाहर्ता कमलाकांत त्रिवेदी, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी सुनील कुमार गुप्ता, पुलिस निरीक्षक राधे श्याम प्रसाद, पुलिस अवर निरीक्षक नागेंद्र सिंह और पानापुर घाट पर भूमि सुधार उप समाहर्ता रवि शंकर शर्मा, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी मोहम्मद शारिक अशरफ, पुलिस अवर निरीक्षक मिहिर कुमार, सहायक अवर निरीक्षक मदन प्रसाद सिंह को प्रतिनियुक्त किया गया है। दंडाधिकारियो तथा पुलिस पदाधिकारियों के साथ दस दस की संख्या में पुलिस बल तैनात रहेंगे।

24 घंटे कार्यरत रहेगा कंट्रोल रूम

जिला स्तर पर विधि व्यवस्था तथा सुरक्षा व्यवस्था की निगरानी के लिए जिला कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है, जिसमें 061 52- 242 444 नंबर पर किसी भी तरह की सूचना दी जा सकेगी। जिला नियंत्रण कक्ष के वरीय प्रभार अपर समाहर्ता आपदा प्रबंधन भरत भूषण प्रसाद तथा मुख्यालय पुलिस उपाधीक्षक रहमत अली बनाए गए हैं । नियंत्रण कक्ष में छह पदाधिकारियों को प्रतिनियुक्त किया गया है, जिसमें अनुमंडल लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी सुमन प्रसाद साह, जिला योजना पदाधिकारी विधान चंद्र राय, आईसीडीएस केडीपीएम वंदना पांडेय, जिला अल्पसंख्यक कल्याण पदाधिकारी रजनीश कुमार राय, जिला कृषि पदाधिकारी डॉक्टर के के वर्मा, खनन निरीक्षक मधुसूदन चतुर्वेदी को प्रतिनियुक्त किया गया है। इसके अलावा किसी भी तरह की आपदा की स्थिति से निपटने के लिए सभी तरह के आवश्यक उपाय करने का भी निर्देश दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!