मिल बाबुल से बिटिया रोये…

इस समाचार को शेयर करें

मिल बाबुल से बिटिया रोये ,छोड़ चली घर द्वारा

सपनों से भी जो सुंदर था ,प्राणों से भी प्यारा ।

जब मैं छोटी सी बच्ची थी ,जल्दी तुम घर आते थे ।

गुड़िया ,गुड्डा,और खिलौने ,कितने सारे लाते थे ।

लेकिन सबसे अच्छा लगता ,मुझको साथ तुम्हारा ।

साथ तुम्ही तो होते मैंने ,जब जब तुम्हे पुकारा

सपनों से भी …………………।

इक मेरी मुस्कान के लिए  ,कितने लाड़ लड़ाते ।

घोड़ा जब कहती बन जाते ,चाहे थक भी  जाते ।

अपने पास नही कुछ रक्खा ,सब था मुझ पर वारा ।

ऐसा प्यार कहाँ पाऊँगी ,फिर से कहो दुबारा ।

सपनों से भी …………………।

छाँव नेह की पायी तुमसे ,माँ भी याद न आती ।

इक दिन जाना है सब तजकर ,सोच -सोच घबराती ।

लालन पालन में मेरे ही ,जीवन  किया गुज़ारा ।

बनी पराया धन है बेटी ,क्यों माने जग सारा ।

सपनों से भी …………………।

करी विदाई बाबुल तुमने ,कैसी रीत निभाई ।

रस्मों और रिवाज़ों खातिर ,बेटी करी पराई ।

कैसे मुझ बिन जी पाओगे ,इक पल नहीं विचारा ।

कौन रखेगा ध्यान तुम्हारा ,होगा कौन सहारा

सपनों से भी …………………।

खूब दिए आशीष पिता ने ,अंक लिया बिटिया को ।

बोले गुड्डे के सँग बांधा ,प्यारी इस गुड़िया को ।

अब ससुराल तुम्हारा घर है ,सुखी रहे संसारा ।

तन- मन- धन से साथ निभाओ , होगा नाम हमारा ।

सपनों से भी …………………।

याद अगर मैं  बाबुल आऊँ  ,तुम्हे कसम मत रोना ।

सजल नयन कर अश्रु धार से ,दामन को मत धोना ।

बहुत कठिन है बिसरा देना ,ये घर ये चौबारा ।

आँचल में मैं बाँध रखूंगी ,प्यार तुम्हारा सारा ।

सपनों से भी …………………।

@रीना गोयल ( हरियाणा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!