मतदान कर स्याही का निशान दिखाएं, मिलेगी मुफ्त इलाज की सुविधा

इस समाचार को शेयर करें

छपरा। लोकतंत्र के महापर्व के लिए जिला प्रशासन की ओर से मतदान प्रतिशत बढ़ाने की दिशा में प्रयास जारी है।  अभियान के तहत जगह- जगह जागरूकता रैली व कार्यक्रम का भी आयोजन किया जा रहा है। वहीं इससे इधर  इतर कई जागरूक लोग भी मतदाताओं को वोटिंग के लिए प्रेरित करने की पहल अपने -अपने स्तर से कर रहे हैं। सदर अस्पताल के रिटायर्ड उपाधीक्षक डॉक्टर शंभूनाथ सिंह ने मतदान करने वालों के लिए निशुल्क चिकित्सा परामर्श देने का ऐलान किया है। यह छूट मतदान की तारीख 6 व 12 मई के अलावा मतदान के अगले  तीन दिनों तक मरीजों को मिलेगी। इसके लिए मरीज मतदाताओं को अपनी अंगुली पर लगी अमिट स्याही दिखानी होगी। रिटायर्ड डीएस ने कहा कि आज के समय में अंगुली पर लगे स्याही ही फैशन की पहचान होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जिले में अधिक से अधिक मतदान का प्रतिशत सुनिश्चित करने के लिए ही यह पहल की है कि अंगुली पर स्याही का निशान दिखाओ और निशुल्क चिकित्सा परामर्श की सुविधा का लाभ लोग अधिक से अधिक मरीज उठाएं ।चिकित्सा का कहना है कि मतदाता किसी को वोट करें,यह उनका विषय नहीं है। लेकिन मतदान जरूर करें सिर्फ यही जागरूकता फैलाना मेरा  उद्देश्य है।

 लोकतंत्र में हर एक वोट का महत्व

 रिटायर्ड डीएस ने कहा कि लोकतंत्र में हर एक वोट का महत्व होता है। इसका आभास तब होता है जब एक वोट से सरकार बनती है और गिरती है। इसलिए हर मतदाता को अपने मताधिकार का प्रयोग अवश्य करना चाहिए। मताधिकार के शत- प्रतिशत प्रयोग के प्रति समाज में जागरूकता पैदा कर लोकतांत्रिक व्यवस्था को शक्ति प्रदान करना ही उनका मुख्य उद्देश्य भी है। उन्होंने युवाओं से आह्वान किया कि वे धर्म,क्षेत्र, भाषा, संप्रदाय से ऊपर उठकर मताधिकार का प्रयोग करें।


अंगुली पर स्याही का निशान हो..

 मताधिकार के बारे में मरीजों से चर्चा करते हुए रिटायर्ड ने कहा कि हर  अंगुली पर स्याही का निशान हो ,देश कह रहा है कि  सब का मतदान हो। उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति चाहता है कि उसके हाथों में अमिट स्याही लगे। पहले सेल्फी का क्रेज नहीं था। फेसबुक और दूसरी सोशल साइट नहीं थी। मगर अब ये सब है। मतदान के बाद युवा अपनी तस्वीर इन सोशल साइट पर अपलोड करते हैं। कमेंट शेयर करते हैं। अब मतदान एक अभियान की शक्ल ले चुका है।

परामर्श पर्ची पर लगाया जा लगाया जा रहा मुहर 

चिकित्सके  के पास  इलाज के लिए आने वाले मरीजों को जिस पर्ची पर चिकित्सीय परामर्श दिया जा रहा है, उस पर भी 6 और 12 मई को मतदान अवश्य करने का मुहर भी अलग से लगाया जा रहा है  जिस मतदाता का घर सारण संसदीय क्षेत्र में है उसे  छह मई को मतदान करने के लिए व जिसका महाराजगंज संसदीय क्षेत्र में घर है उसे 12 मई को मतदान करने के लिए बताया  जा रहा है। एक पर्ची पर दो दो स्टाम्प मुहर लगा कर मतदान में भाग लेने का अनुरोध भी किया जा रहा है । बच्चों के इलाज के दौरान  उनके माता पिता को मतदान में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। चिकित्सक ने कहा कि जिला प्रशासन की पहल सुगम सारण-सहज सारण से प्रेरित होकर मतदान को उत्सव के तौर पर मनाने के लिए यह अनूठी प्रयास किये हैं।

Ganpat Aryan

Ganpat Aryan

Multimedia Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!