पूर्वजों के सपनों को साकार करेगा पीसीएस स्कूल : डॉ अनिल

इस समाचार को शेयर करें

रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बीच विद्यालय का हुआ शुभारंभ

मनमोहक गीत व नृत्य पेश कर छात्र- छात्राओं ने उपस्थितजनों की बटोरी तालियां

छपरा : पूर्वजों के सपनों को साकार करने में पीसीएस स्कूल मील का पत्थर साबित होगा। उक्त बातें संजीवनी नर्सिंग होम एवं मेटरनिटी सेंटर के निदेशक डॉ अनिल कुमार ने जलालपुर प्रखंड के अनवल गांव में पीसीएस स्कूल का उद्घाटन करते हुए गुरुवार को कही। उन्होंने कहा कि उनके पिता स्वर्गीय दारोगा राय तथा चाचा इंजिनीयर स्वर्गीय सिपाही राय का सपना था कि इस गांव में भी बच्चों को आधुनिक तरीके से शिक्षा देने के लिए सभी संसाधन से सुसज्जित शिक्षण संस्थान खुले। उन्होंने कहा कि भले ही वह आज हम लोगों के बीच नहीं है, लेकिन उनकी सोच व सपनों को साकार करने की दिशा में हम सभी निरंतर प्रयासरत हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों को गुणवत्ता युक्त शिक्षा के साथ संस्कार व नैतिक मूल्यों का ज्ञान देने का केंद्र यह शिक्षण संस्थान बनेगा। ऐसी हम लोग उम्मीद कर रहे हैं और इस विद्यालय के सभी शिक्षक भी इस दिशा में प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि बच्चों को शिक्षा देने की जिम्मेदारी शिक्षकों की है लेकिन बच्चे क्या कर रहे हैं और शिक्षक क्या पढ़ा रहे हैं यह देखने की जिम्मेदारी अभिभावकों की है उन्होंने कहा कि शिक्षकों तथा अभिभावकों के बीच बच्चों के शैक्षणिक विकास के लिए समन्वय का होना आवश्यक है अभिभावकों और शिक्षकों के समन्वय से ही छात्र छात्राओं का समग्र विकास संभव है इस मौके पर विद्यालय के निदेशक प्रदीप कुमार नेम कहा कि बच्चों को बेहतर शिक्षा प्रदान करना उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता होगी उन्होंने कहा कि केवल शिक्षा नहीं बल्कि छात्र छात्राओं को संपूर्ण मानव बनाने के हर संभव प्रयास विद्यालय परिवार की ओर से किया जायेगा उन्होंने कहा कि इसके लिए विद्यालय परिवार पूरी तरह संकल्पित है प्रारंभ में उपस्थित जनों ने स्वर्गीय दारोगा राय तथा स्वर्गीय इंजीनियर सिपाही राय के तैल चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी और उनके सपनों को साकार करने का संकल्प लिया इस मौके पर स्वर्गीय दरोगा राय की धर्मपत्नी रेशमा देवी ने समारोह का उद्घाटन किया। इस मौके पर चार्टर्ड अकाउंटेंट तरुण कुमार, अधिवक्ता अभय कुमार यादव, राजीव रंजन कुमार, डॉ मुसाफिर राय, सुनील कुमार, राज कुमार, नागेन्द्र राय, शैलेश कुमार, विकेश कुमार, दशरथ राय, लक्ष्मण कुमार, श्वेता सिंह, रीता देवी, माया देवी, मुन्नी देवी, गुड्डी कुमारी, जूही कुमारी, रेहाना खातून, अजीत कुमार, संजीव कुमार, चिंटू कुमार, अमृता कुमारी, सीमा कुमारी आदि ने भाग लिया। समारोह में स्कूल की छात्र छात्राओं ने सरस्वती वंदना पेश कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया इस दौरान राष्ट्रीय गीत, भक्ति गीत तथा सामाजिक गीत पर नृत्य की प्रस्तुति कर छात्र छात्राओं ने उपस्थित जनों का मन मोह लिया और खूब तालियां बटोरी। समारोह का संचालन डा संजू प्रसाद ने किया तथा धन्यवाद ज्ञापन प्राचार्य संगीता देवी ने किया।

गांव के विकास में दोनों भाइयों के योगदान को नहीं भुलाया जा सकता: पूर्व मुखिया

छपरा : जलालपुर प्रखंड के अनवल गांव के विकास में स्वर्गीय दरोगा राय तथा इंजीनियर स्वर्गीय सिपाही राय के विकास को नहीं भुलाया जा सकता है। उक्त बातें अनवल पंचायत के पूर्व मुखिया सूर्यवंशी शर्मा ने पीसीएस स्कूल के उद्घाटन समारोह में गुरुवार को कही। उन्होंने कहा कि स्वर्गीय दरोगा राय गांव के बच्चों और बुजुर्गों तथा नौजवानों सभी की समस्याओं को काफी गंभीरता व तत्परता से सुनते थे तथा उसके निराकरण का प्रयास करते थे। उनके पास जाने वाला कोई भी व्यक्ति कभी भी निराश होकर नहीं लौटता था। गांव में खेलकूद के आयोजन या सामाजिक कार्यों के लिए वह हमेशा तत्पर रहते थे।

सिपाही राय के प्रयास से गांव में विकास समिति व न्याय समिति का हुआ था गठन

छपरा। जिले के जलालपुर प्रखंड के अनवल गांव में इंजीनियर स्वर्गीय सिपाही राय के प्रयास से विकास समिति तथा न्याय समिति का गठन पहली बार किया गया था । उक्त बातें पीसीएस स्कूल के उद्घाटन समारोह तथा उनके पुण्यतिथि के अवसर पर आयोजित समारोह में वक्ताओं ने गुरुवार को कही। वक्ताओं ने कहा कि अनवल गांव का विकास सामाजिक प्रयासों से कराने की दिशा में सिपाही राय ने, जो योगदान किया था, उसे नहीं भुलाया जा सकता है। बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी सिपाही राय के प्रयास से बिना किसी बल प्रयोग के ही पूरे गांव से अतिक्रमण हटाया गया था और जन सहयोग से गांव के सड़कों का निर्माण कराया गया था। गांव में खेलकूद के विकास में भी उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा है। पेयजल आपूर्ति खेतों में सिंचाई तथा विद्यालयों के विकास के लिए वह हमेशा तत्पर रहे। नौकरी छोड़कर आने के बाद सिपाही राय ने गांव के नौजवानों तथा बच्चों के विकास के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाया था। उन्हीं की देन है कि गांव की सभी सड़कें आज पक्की हो चुकी है और मुख्य सड़क से जुड़ गई है। सभी गांवों से इस गांव की कनेक्टिविटी भी हो गई है।

शिक्षा को बताया था दोनों भाइयों ने विकास का मूल मंत्र

छपरा : स्वर्गीय सिपाही राय तथा स्वर्गीय दरोगा राय ने शिक्षा को विकास का मूल मंत्र बताया था और यही वजह है कि ग्रामीण परिवेश में रहकर भी परिवार के साथ- साथ गांव के सभी बच्चों को हमेशा उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रेरित करते रहे। उक्त बातें पीसीएस स्कूल के उद्घाटन समारोह में वक्ताओं ने गुरुवार को कही। उपस्थितजनों ने दोनों भाइयों को सादगी, इमानदारी व कर्मठता के प्रतीक बताया तथा कहा कि दोनों भाई पूरे गांव के विकास के लिए हमेशा नई नई योजना बनाते रहते थे और गांव के लोगों को एकजुट कर उसे कार्यान्वित करने के लिए प्रेरित करते थे । आपसी एकता और भाईचारा गांव में कायम करने में भी दोनों भाइयों के योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। नौजवानों को हमेशा नैतिक ज्ञान देने के साथ-साथ परिवार के बड़े बुजुर्गों का आदर व सम्मान करने के लिए प्रेरित करते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!