वैश्विक महामारी में भी लापरवाही बरतने से बाज नहीं आ रहे हैं चिकित्साकर्मी

इस समाचार को शेयर करें

– कर्तव्य से गायब मिले कर्मियों से स्पष्टीकरण पूछने का आदेश, वेतन भुगतान पर लगी रोक

छपरा : आज पूरा देश वैश्विक महामारी से जुझ रहा है और इस हालात में भी लापरवाही बरतने से चिकित्साकर्मी बाज नहीं आ रहे हैं। इस मामले को सिविल सर्जन डा माधवेश्वर झा ने काफी गंभीरता से लिया है और कर्तव्य से गायब मिलें चिकित्सा कर्मियों से स्पष्टीकरण पूछने का आदेश दिया है और उनके वेतन भुगतान पर रोक लगा दी है। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने तथा बचाव के लिए सभी चिकित्साकर्मियों को पहले से ही सख्त दिशा निर्देश जारी किया गया है। बावजूद इसके जांच में चिकित्सकों तथा कर्मचारियों को अनुपस्थित रहने के कारण उनके खिलाफ कार्रवाई की गई है, जिसमें सोनपुर के डॉ संतोष कुमार, डॉ अश्विनी कुमार, डॉ बृजेश कुमार, डॉ राजकिशोर सिंह, अमनौर के डॉ सरोज कुमारी सिन्हा, दिघवारा के डॉ रविकांत, अमनौर के डॉ तारकेश्वर सिंह, डॉ अशोक कुमार, डॉ सुधांशु शेखर पांडेय, इसुआपुर के डॉ राजीव कुमार अमन, मशरख के डॉ चंद्रशेखर सिंह, डॉ कविता सिंह, डॉ एसके विद्यार्थी, तरैया के लिपिक मुकेश कुमार, पंकज कुमार, दरियापुर के डॉ शाहिना तबस्सुम, आयुष चिकित्सक के सहायक रामानंद पासवान, एकमा के डॉ गंगासागर बिंदु, डॉ भोला शर्मा, डॉ मंदाकिनी, डॉ साजन कुमार, नगरा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉ देवेश चंद्र को अनुपस्थित पाया गया है। इन चिकित्सकों के खिलाफ अनुशासनहीनता, गैरजिम्मेदाराना, स्वेच्छाचारिता एवं सरकारी कार्यों में रूचि नहीं लेने के आरोप में कार्रवाई की गई है। सिविल सर्जन ने बताया कि वेतन भुगतान पर रोक लगाते हुए प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के मंतव्य के साथ स्पष्टीकरण मांगा गया है और संतोषजनक जवाब नहीं देने वाले चिकित्सकों के खिलाफ प्रपत्र “क” में आरोप गठित करने तथा सेवा समाप्त करने की भी कार्रवाई की होगी।

Ranjit Kumar

Ranjit Kumar

Digital Media Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!