देखिये! NH-19 का हाल: हिचकोले मारते वाहन, उड़ता हुआ धूल है इसकी पहचान

इस समाचार को शेयर करें

छपरा। छपरा-मांझी के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग 19 गड्ढों में तब्दील हो चुकी है। हिचकोले खाते, जगह जगह खराब पङे वाहन, उङता हुआ धूल कण इस सङक की पहचान बन चुकी है। इस कारण इस मार्ग पर आवागमन काफी बाधा उत्पन्न हो रही है । कई वाहन गड्ढे के कारण फंस जाते हैं और दुर्घटनाग्रस्त हो जाते हैं। इस स्थिति में सड़क पर लंबा जाम लग जाता है। वाहनों की कौन कहे, दुपहिया से भी आने-जाने में काफी परेशानी हो रही है।आये दिन इस सड़क पर वाहनों का लंबा काफिला लग जाता है। इस कारण सड़क से आने-जाने वाले वाहनों सहित दूर-दराज से आने जाने-वाले लोगों को परेशानी होती ही है। पहिया ढाला से लेकर गोदना मोड़ सहित आस-पास के कई मुहल्लों के लोगों को परेशानी हो रही है। यह हाजीपुर से आने और उतर प्रदेश जाने वाले वाहनों के लिए एकमात्र सड़क है। जबकि सड़क की दयनीय स्थिति कई महीनों से बनी हुई है। इस पथ से राष्ट्रीय पथ के अधिकारी भी प्रतिदिन गुजरते हैं, परंतु उनके कान पर जूं नहीं रेंगती है। लापरवाही का आलम यह है कि अभी तक इस पथ को मरम्मत करने के लिए कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जबकि लोग प्रतिदिन परेशानी झेल रहे हैं।

बड़े बड़े विकास दावे करते है सांसद:
बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूडी हमेशा विकास के बड़े बड़े दावे करते नजर आते है। फेसबुक पर कुछ चुनिंदे जगहों की वीडियो बनाकर वे वाहवाही लेते नजर आते है। लेकिन सांसद मोहदय को इस सड़क के बारे में सोचने की फुर्सत नहीं मिलता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि सांसद कभी इस सड़क का वीडियो बनाकर अपने फेसबुक पर लगाये ताकि उनकी विकास की सच्ची तस्वीर सामने आ सके।

आवागमन में भी हो रही है परेशानी

उतर प्रदेश जाने के लिए यही एकमात्र सड़क है, जो हाजीपुर तथा मुज्जफरपुर की तरफ से आने वाले तथा बलिया जाने वाले वाहनों के लिए एकमात्र सड़क एनएच 19 है। इससे दो जिले जुड़ते हैं। प्रतिदिन सड़क से लगभग दस हजार वाहन गुजरते हैं। सड़क की व्यस्तता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि किसी वाहन के दुर्घटनाग्रस्त होने पर थोड़ी ही देर में चार पांच किलोमीटर तक दोनों तरफ सैकड़ों वाहनों का काफिला जमा हो जाता है। इससे आस पास के सभी मुहल्ले वासियों को काफी परेशानी होती है। इस सड़क पर जाम की स्थिति का दुष्परिणाम यह होता है कि दो पहिया चालक रिविलगंज रेलवे लाइन के किनारे से होकर जाते है। लोग घंटों जाम में फंसे रह जाते हैं। वहीं रिविलगंज बाजार में जाने वाले वाहनों के लिए भी समस्या उत्पन्न हो जाती है।

धूल से हो रही काफी परेशानी

चार पहिया वाहनों को कौन कहे, एनएच 19 पर मांझी से छपरा जाने जाने वाले दो पहिया वाहन चालक कतरा रहे है। मांझी से लेकर रिविलगंज थाना तथा गोदना मोड़ से लेकर ब्रह्मपुर पुल तक जाने के मार्ग परिवर्तन कर कर जा रहे हैं। सड़क खराब होने तथा निर्माण कार्य शुरू होने के कारण इतनी धूल उड़ रही है,जिसके कारण सड़क पर चलना मुश्किल हो गया है। सड़क के दोनों तरफ के गांवों के लोग धूल उङने के कारण कई तरह की बीमारियों के शिकार हो रहे हैं। यक्ष्मा, श्वांस लेने में परेशानी, साइनस, दम फूलने की शिकायत आम हो गयी है। सङक पर हिचकोले के कारण वाहनों को पलटने, दुर्घटनाग्रस्त होने के कारण जाम, दुर्घटना में घायल होने और मौत के शिकार होने से विधि व्यवस्था की गंभीर समस्या उत्पन्न हो रही है।आस-पास के लोग धूल के कारण कई संक्रमण रोग के भी शिकार हो गए है। धूल के कारण सड़क किनारे स्थित स्कूल के बच्चे भी स्कूल जाने में कतरा रहे है। घरों की सफाई एक गंभीर समस्या बन गई है। खाने पीने की वस्तुओं को ढककर रखने के बावजूद दूषित हो रहा है। निर्माण कार्य मे लगे संवेदक सड़क पर पानी नही दे रहे है, जिस कारण अत्याधिक धूल उड़ रही है। छपरा से मांझी के बीच दस वर्षों से एन की मरम्मती का काम नहीं हुआ है और निर्माण कार्य की गति काफी धीमी हो गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!