मुजफ्फरपुर SSP की गिरफ्तारी के लिए हाथ में हथकड़ियां लेकर CM के आदेश का इंतजार कर रही विजिलेंस

Spread the love

Patna Desk:  बिहार के मुजफ्फरपुर के एसएसपी विवेक कुमार के आवास से अधिक संपत्ति के मामले में बिहार की विशेष सतर्कता इकाई की छापेमारी चल रही है. वहीं, सूचना मिली है कि मुजफ्फरपुर स्थित उनके सरकारी आवास में एसएसपी विवेक कुमार, उनकी पत्नी और करीब डेढ़ वर्षीय बेटा मौजूद हैं. वहीं, विशेष सतर्कता इकाई ने पुलिस से तीन हथकड़ियां भी मंगवा ली है. संभावना व्यक्त की जा रही है कि भारतीय पुलिस सेवा के 2007 बैच के अधिकारी और मुजफ्फरपुर के वरीय पुलिस अधीक्षक विवेक कुमार की गिरफ्तारी कभी भी की जा सकती है. एसवीयू ने अपनी प्रारंभिक रिपोर्ट सरकार को सौंप कर मुख्यमंत्री के आदेश का इंतजार कर रही है. आदेश मिलते ही एसएसपी की गिरफ्तारी कभी भी की जा सकती है. बताया जाता है कि एसएसपी विवेक कुमार के आवास में मौजूद लोगों के मोबाइल फोन बंद करा दिये गये हैं. साथ ही किसी को भी घर के अंदर प्रवेश नहीं करने दिया जा रहा है. मालूम हो कि 2007 बैच के आइपीएस विवेक कुमार की केंद्रीय प्रतिनियुक्ति कर उन्हें मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर सतपाल सिंह का आप्त सचिव नियुक्त किया गया है.

एसएसपी के मुजफ्फरपुर स्थित सरकारी आवास समेत उत्तर प्रदेश के सहारनपुर स्थित उनके पैतृक घर और मुजफ्फरनगर स्थित उनकी ससुराल के घर पर सोमवार की शाम से चल रही छापेमारी अब भी जारी है. हालांकि, मुजफ्फरनगर स्थित उनकी ससुराल का आवास बंद होने और संबंधियों के मौजूद नहीं रहने के कारण छापेमारी देरी से शुरू हुई. उनके पैतृक घर और ससुराल में एसएसपी के परिजनों को  सूचना देकर बुलाये जाने के बाद देर शाम पुलिस ने कार्रवाई शुरू की. नीतीश सरकार द्वारा भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाये जाने के बाद वरीय आईपीएस अधिकारी स्तर पर यह पहली कार्रवाई है. हालांकि, वर्ष 2008 में एसवीयू ने बिहार के तत्कालीन डीजी होमगार्ड डीजीपी नारायण मिश्रा के खिलाफ कार्रवाई की थी.

 
जानकारी के मुताबिक, विशेष सतर्कता इकाई (एसवीयू) ने छापेमारी के दौरान मुजफ्फरपुर स्थित उनके सरकारी आवास से छह लाख नकद, साढ़े पांच लाख रुपये के स्वर्ण आभूषण और करीब 40 हजार रुपये के पुराने नोट बरामद किये हैं. हरियाणा के शराब माफिया से मिलीभगत और कांटी थाने के पानापुर ओपी में तैनात दारोगा संजय गौर की मौत की घटना के बाद उनकी पत्नी द्वारा की गयी शिकायत पर राज्य सरकार की पहल पर यह कार्रवाई की जा रही है. विजिलेंस के आइजी रत्न संजय के नेतृत्व में हो रही कार्रवाई में प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है. 

Ganpat Aryan

Web Media Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
error: Content is protected !!