फेसबुक व वाट्सएप ग्रुप पर राजनीतिक या धार्मिक टिप्पणी करने वालों की अब सीधा जायेंगे जेल

Spread the love

छपरा। कार्रवाई के डर से सोशल मीडिया के ग्रुप एडमिन चौकन्ने हो गए हैं। फेसबुक, वाट्सएप ग्रुप पर किए जाने वाली पोस्ट का दायरा सीमित कर दिया है। तमाम ग्रुप एडमिन चेतावनी दे चुके हैं तो तमाम ने अपने ग्रुप पर केवल एडमिन को ही पोस्ट करने की अनुमति दी है। इनके ग्रुप पर शेष लोग किसी भी प्रकार की पोस्ट नहीं कर सकते। लोकसभा चुनाव के दौरान आयोग, जिला प्रशासन सोशल मीडिया को लेकर गंभीर है। आपत्तिजनक और प्रत्याशियों के संबंध में किए जाने वाले पोस्ट पर कार्रवाई की चेतावनी जारी की जा चुकी है। हालांकि सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करने के मामले में कार्रवाई का प्रावधान पहले से ही है। किसी धर्म विशेष के संबंध में टिप्पणी करने पर आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई भी हुई हैं। अब तक फेसबुक और वाट्सएप ग्रुप पर लोग राजनीतिक संबंधी पोस्ट धड़ाधड़ करते थे।

आचार संहिता के बाद सोशल मीडिया पर निगरानी 

अमुक पार्टी व संभावित प्रत्याशी के समर्थक प्रचार करने में लगे हुए थे। चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद सोशल मीडिया पर भी शिकंजा कसा जा रहा है। पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने स्पष्ट आदेश जारी किया है कि फेसबुक व वाट्सएप ग्रुप पर कोई भी राजनीतिक या धार्मिक टिप्पणी नहीं की जाएगी। ऐसा करने वालों के साथ ही ग्रुप एडमिन के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। कार्रवाई के डर से सोशल मीडिया पर ग्रुप संचालित करने वाले एडमिन ने सदस्यों के पोस्ट करने पर रोक लगा दी है। ग्रुप पर केवल एडमिन ही पोस्ट कर सकेंगे। कुल मिलाकर आचार संहिता लागू होने के बाद सोशल मीडिया पर काफी काबू हो चुका है।

 खतरे में आ सकती है उम्मीदवारी 

चुनाव आयोग के अधिकारियों की मानें तो लोकसभा चुनाव के दौरान राजनीति दल, उम्मीदवार असत्यापित विज्ञापन, रक्षा कर्मियों की तस्वीरें, फेक न्यूज, भड़काऊ पोस्ट सोशल मीडिया पर नहीं डाल सकते हैं। ऐसा करने पर उनकी उम्मीदवारी खतरे में आ सकती है। इसके अलावा राजनीति पार्टी से ताल्लुकात रखने वाले लोग अगर ऐसे पोस्ट सोशल मीडिया पर डालते हैं तो न सिर्फ वह गिरफ्तार होंगे बल्कि जेल भी जा सकते हैं। 

चुनाव आयोग की भी नजर

लोकसभा चुनाव में नामांकन से पूर्व उम्मीदवारों को फेसबुक ट्विटर, गूगल सहित अन्य सोशल मीडिया अकांट्स की गतिविधियों पर नजर चुनाव आयोग रख रही है। उम्मीदवारों को सोशल मीडिया अकाउंट्स की जानकारी लिखित रूप से देनी होगी।

Ganpat Aryan

Web Media Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
error: Content is protected !!