रिविलगंज में पशु चराने गये अधेड़ की गला रेत कर दिन दहाड़े हत्या

Spread the love

छपरा। जिले के रिविलगंज थाना क्षेत्र के देवरिया गांव के चंवर में पशु चराने गये एक अधेड़ की गला रेत कर दिन दहाड़े हत्या कर दी गयी । घटना मंगलवार को दिन के साढ़े तीन बजे की है । हत्या की घटना के बाद लोगों में आक्रोश व दहशत का माहौल बना हुआ है । पुलिस ने शव को अपने कब्जे में ले कर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दी है। बताया जाता है कि देवरिया गांव के स्व रामप्यारे राय के पुत्र अवधेश राय अपने पशुओं को लेकर चराने के लिए चंवर में गये थे । दिन के दो बजे वह घर से निकले और डेढ़ घंटे बाद साढ़े तीन बजे उनकी हत्या कर दी गयी । हत्या की जानकारी परिजनों को चंवर में खेत में काम कर रहे मजदूरों ने दी । अवधेश राय का शव चंवर में स्थित सोरही पोखरा के पास पड़ा था। परिजनों ने घटना की सूचना रिविलगंज थाना की पुलिस को दी । सूचना पाकर पुलिस पहुंची और शव को अपने कब्जे में ले कर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दी । खबर लिखे जाने तक हत्या के कारणों का पता नही चल सका है और हत्यारों का सुराग नहीं मिला है । इस मामले में प्राथमिकी भी दर्ज नहीं हो सका है। हत्या की घटना जिस स्थान पर हुई है, वह पूरी तरह सुनसान है और चंवर के बीच में पोखरा है जो काफी गहरा है । पोखरा में ही हत्या की गयी थी । वहां काफी दूर तक खुन फैला हुआ था । हत्या की घटना जानकारी सबसे पहले एक छोटी बच्ची ने चंवर में काम कर रहे मजदूरों को दी और फिर मजदूरों ने जाकर शव की पहचान की जिसके बाद परिजनों को सूचना दी । चंवर में हत्या की घटना की सूचना मिलने के बाद काफी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गयी । इस घटना के बाद परिजनों में हाहाकार मच गया । परिजनों में चीख पुकार मच गयी ।अवधेश राय के तीन पुत्र हैं जिसमें से एक पुत्र घर पर रहता है और दो पुत्र दूसरे जगह रहकर मजदूरी करते हैं । इस घटना से ग्रामीणों में काफी आक्रोश है और लोगों ने क्षेत्र में लगातार बढ़ रही अपराधिक वारदातों पर काबू पाने में पुलिस की विफलता नाराजगी व्यक्त की है । सदर अस्पताल में शव का पोस्टमार्टम के दौरान सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अजय कुमार सिंह भी पहुंचे । उन्होंने बताया कि धारदार हथियार से गला रेत कर हत्या की गयी है । पुलिस इसकी जांच कर रही है ।

अवधेश के लिए मंगल बना अमंगल

अवधेश और उसके परिजनों के लिए मंगलवार का दिन अमंगल बन गया । अवधेश राय की बहन भी आयी थी और वह अपने ससुराल जाने वाली थी लेकिन मंगलवार का दिन होने के कारण वह नहीं गयी । अवधेश अपने पशुओं को लेकर प्रतिदिन चंवर में जाते थे । परिजनों को क्या पता था कि उसके जीवन का आज का अंतिम दिन होगा । आशंका है कि अपराधियों ने पहले से ही हत्या की योजना बना ली थी और जब वह पशुओं को चराने के लिए गए तो, हत्या कर दी गयी । इस घटना से ग्रामीण काफी स्तब्ध है और अवधेश राय घर पर रह कर पशुपालन व खेती बाड़ी कर परिवार का भरण पोषण करते थे। हत्या की घटना के कारण अवधेश के परिजनों पर दुःखों का पहाड़ टूट पड़ा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Close