लाखों मजदूरों के दर्द को दर्शाता है भोजपुरी लघु फिल्म प्रवासी के पीड़ा

Spread the love

छपरा। बिहार तथा यूपी के पूर्वांचल के लोग सबसे ज्यादा लोग अपने गाँव घर से दूर रोजी रोजगार के चक्कर में जाते हैं और वर्षों तक लौट के नहीं आते। उनको बाकी दिनों में तो, कुछ खास नहीं समझ आता पर जब पर्व त्योहार खास कर छठ जैसे महापर्व में घर नहीं आते तो, मन भावुक हो के रोने लगता है। उन्हीं लाखों मजदूरों के दर्द को अपने भोजपुरी लघु फिल्म “प्रवासी के पीड़ा” में दिखाने की कोशिश की है युवा लेखक व फिल्म अभिनेता अभिषेक भोजपुरिया ने। यह फिल्म एमवीए फिल्म्स के यूट्यूब चैनल पर रिलिज किया है, जो लोगों को बेहद पसंद आ रही है। इस फिल्म की कहानी पटकथा व संवाद खुद अभिषेक भोजपुरिया ने लिखा व निर्देशन किया है।
दस मिनट के इस छोटे से फिल्म में उन लाखों मजदूरों के दर्द को दिखाया गया है, जो इस बार भी छठ में छुट्टी नहीं मिलने के कारण घर नहीं आ पा रहे हैं।

इस फिल्म का नायक अजय छठ गीत जब सुनता है तो, भावुक हो जाता है। तब उसे घर परिवार की याद आती है। कम्पनी के मैनेजर छुट्टी लेकर घर जाने की बात कहते हैं, परंतु कम्पनी से लिए एडवांस व अन्य कारणों से न जा पाने की दर्द आंखों में झलकती है। इस फिल्म की पुरी कहानी दर्शकों के दिल को छु लेने वाली है । बताते चलें कि अभिषेक भोजपुरिया हमेशा से समस्या पर आधारित फिल्म बनाते रहे हैं। इससे पहले इन्होंने किसानो के समस्या पर आधारित फिल्म दोषी के?, लड़कियों पर हो रहे तेजाब से हमले के जबाब में फिल्म “अब बारी हमारी है” हिन्दु- मुस्लिम प्रेम को दिखाता फिल्म “काशिम काफ़िर हो गया” बनाया है। इनकी अगले साल बड़े पर्दे की फिल्म “मन के कचोट” रिलिज होने वाली है।

Ganpat Aryan

Web Media Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
error: Content is protected !!