न्यायिक सेवा परीक्षा में सारण की बेटियों ने रचा सफलता का इतिहास

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/sarans-daughters-wrote-the-history-of-success-in-the-judicial-service-exam/
Twitter

छपरा। बिहार राज्य लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित 29 वीं बिहार न्यायिक सेवा प्रतियोगिता परीक्षा में सारण की युवतियों की ने सफलता का इतिहास रचा है । कुल् 194 सफल अभ्यर्थियों में सारण की चार युवतियां हैं जो 16 वीं, 21 वीं और 28 वा रैंक हासिल की है । इस जिले की चार युवतियों ने सफलता हासिल कर किर्तीमान स्थापित किया है लेकिन एक भी युवक सफल नहीं हुए ।

बेटी बचाओ, बेटी पढाओ में सारण की रही है धमक
सरकार भले ही आज बेटी बचाओ, बेटी पढाओ का नारा दे रही है लेकिन इस मामले में सारण का स्वर्णिम अतीत रहा है । शुरू से ही “बेटी को बचाने , बेटी को पढाने ” में सारण जिले की अग्रणी भूमिका रही है और देश ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी सारण की युवतियां न्यायिक क्षेत्र में महत्वपूर्ण पदों पर काबिज हैं । रिविलगंज थाना क्षेत्र के मुकरेड़ा गांव की सविता सिंह वर्तमान समय में अमेरिका में मुख्य न्यायाधीश के पद पर कार्यरत हैं । इस तरह के कई उदाहरण हैं ।

शिक्षक की बिटिया बनी जज
शहर के नगीना सिंह कालोनी के निवासी बिहार पुलिस सेवा के सेवानिवृत्त अधिकारी व वर्तमान समय में समाहरणालय में लोक शिकायत पदाधिकारी बालेश्वर प्रसाद तथा सेवा निवृत्त प्रधानाध्यापक रंजना सिंह की पुत्री श्वेता सिंह ने न्यायिक सेवा में सामान्य महिला श्रेणी में 16 रैंक हासिल की है । तीन बहन व एक भाई में दूसरी श्वेता सिंह ने पहले ही प्रयास में यह मुकाम हासिल की है और इसका श्रेय वह अपनी स्वर्गवासी मां को देती हैं और उनका कहना है कि उनकी मां उसे न्यायिक सेवा में जाने के लिए शुरू से ही प्रेरित करती थी । भले ही श्वेता की मा नहीं है लेकिन उनके सपनों को साकार करने वाली श्वेता काफी भावूक होकर कहती है कि यह तो अभी शुरूआत है । सर्वोच्च न्यायालय तक का सफर तय करना है । शहर के ब्रजकिशोर किंडर गार्टेन से 10 तथा राजेंद्र कालेज से स्नातक विज्ञान की पढ़ाई करने वाली श्वेता ने 2016 में दिल्ली विश्वविद्यालय से एलएलबी की पढ़ाई पूरी की और परीक्षा की तैयारी में जुट गयी । इसके पहले से श्वेता के परिवार में न्यायिक सेवा में कोई नहीं रहा है लेकिन उनके चाचा अरविंद कुमार प्रसाद ने वकालत की पढ़ाई की है और वर्तमान समय में वह नगरा में शिक्षक के पद पर कार्यरत हैं । श्वेता की इच्छा है कि वह देश व समाज के पीड़ित तबके को सरल, सस्ता व ससमय न्याय देने में अपना योगदान देकर न्यायिक सेवा की क्षेत्र में बुलंदी तक सफर करें ।

पहले ही प्रयास में हासिल की सफलता

जिले के बनियापुर प्रखंड के धनाव गांव के अशोक मिश्रा की पुत्री श्रेया मिश्रा ने भी इस परीक्षा में 21 वां रैंक हासिल की है । श्रेया की माँ गृहणी है और इस सफलता का श्रेय वह अपनी मां को देती हैं । पटना से मैट्रिक व इंटर की पढ़ाई पूरी करने के बाद बीएएलएलबी चेन्नई से की है । श्रेया ने भी पहली बार में ही सफलता हासिल की है।

नयी बाजार की स्वाति ने सफलता हासिल की है । स्वाती ने पहली प्रयास में न्यायिक सेवा परीक्षा में हासिल की 28वां रैंक हासिल की है । नई बाजार मुहल्ला निवासी व सिंचाई विभाग से रिटायर कर्मी हिमांशु कुमार दूबे की दो बेटियों में सबसे छोटी बेटी स्वाती ने 29वीं बिहार न्यायिक सेवा प्रतियोगिता परीक्षा में सामान्य कोटि के 103 परीक्षार्थियों के बीच 28 वां स्थान हासिल किया है।स्वाती की इस सफलता ने उसके परिवार के साथ ही पूरा सारण जिला को गौरावान्वित किया है।अपने पहले ही प्रयास में कठिन माने जाने वाली प्रतियोगी परीक्षा में 28वां रैंक हासिल करने वाली स्वाती ने अपनी सफलता का श्रेय निरंतर प्रयास व अपने माता-पिता के आर्शीवाद को दिया है।स्वाती ने छपरा के ब्रज किशोर स्कूल से 10 वीं तथा एसडीएस कॉलेज से इंटर व ग्रेजुएशन की डिग्री जेपीविवि के जगदम कॉलेज से लिया। साइंस ग्रेजुएट होने के बावजूद स्वाती ने लॉ के क्षेत्र में अपना मुकाम बनाने की चाह के साथ दिल्ली विश्वविधालय से एलएलबी, कुरूक्षेत्र विवि हरियाणा से एलएलएम की डिग्री हासिल किया। वर्तमान में वह अलीगढ विवि से रिसर्च कर रही है।बचपन से ही मेघावी स्वाती के पिता हिमांशु कुमार दुबे व गृहणी उषा दुबे की माने तो बचपन से ही उनकी बेटी कुशाग्र बुद्धी व सिर्फ पढ़ाई में रूची करने वाली थी।बचपन से ही व स्कूल कॉलेजों में आयोजित होने वाले क्वीज,डिबेट तथा एस्से कंपटिशन में हिस्सा लेने के प्रति हमेशा सक्रिय रहती थी।उधर स्वाती की सफलता के बाद उसके नई बाजार स्थित घर में बधाई देने वालों का तांता लग गया हैं।

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/sarans-daughters-wrote-the-history-of-success-in-the-judicial-service-exam/
Twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

error: Content is protected !!