अब निमोनिया से एक भी बच्चें की नहीं होगी मौत, सभी अस्पतलों में उपलब्ध होगा जिंक व ORS

Spread the love

CHHAPRA DESK: निमोनिया व डायरिया के रोकथाम को लेकर सारण प्रमंडलस्तरीय क्षेत्रीय कार्यक्रम प्रबंधक ईकाई एवं यूनिसेफ के संयुक्त तत्वाधान में कार्यशाला का आयोजन कमिश्नर कार्यालय में किया गया। जिसका शुभारंभ सारण प्रमंडल कमिश्नर नर्मदेश्वर लाल के सचिव अजय कुमार सिन्हा ने किया। जिसमें उन्होंने कहा कि निमोनिया व डायरिया आदि बिमारियों की रोकथाम बहुत जरुरी है, इसके लिए सभी पदाधिकारियों एवं कर्मियों को हर संभव प्रयास करना होगा। तभी प्रमंडल से इन बीमारियों को खत्म कर सकते हैं। इसमें सभी प्रतिभागियों की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है। प्रमंडलीय क्षेत्रीय अपर निदेशक डाॅ. अरविन्द कुमार गुप्ता ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग यूनिसेफ के साथ मिलकर कार्य कर रहा है और प्रयास किया जा रहा है कि एक बच्चे की भी मृत्यु निमोनिया या डायरिया के कारण न हों। उन्होंने कहा कि सारण प्रमंडल में जिंक और ओआरएस की कमी नहीं होने दी जाएगी।कार्यशाला में यूनिसेफ के प्रोग्राम मैंनेजर विस्तार से निमोनिया व डायरिया से बचाव को लेकर अपने विचार व्यक्त किये। इस मौके पर प्रमंडल के सभी सिविल सर्जन, एसीएमओ जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक, एनएचएम, जिला सामुदायिक उत्प्रेरक, आईसीडीएस के डीपीओ आदि उपस्थित थे।

आशा, एएनएम व आंगनबाड़ी कर्मियों को किया जाएगा प्रशिक्षित
यूनिसेफ बिहार ईकाई के स्वास्थ्य विषेषज्ञ डाॅ. सैयद अली ने कहा कि हमारे प्रशिक्षक सारण प्रमंडल के छपरा, सीवान एवं गोपालगंज के अस्पतालों में आशा, एएनएम व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को प्रशिक्षित किया जाएगा। ताकि निमोनिया व डायरिया होने पर तत्काल प्राथमिक उपचार किया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Close