IPS अधिकारी के फोन टैपिंग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- ऐसा लग रहा देश में निजता नहीं बची

इस समाचार को शेयर करें

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी मुकेश गुप्ता के फोन टैपिंग मामले में छत्तीसगढ़ सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि ऐसा लग रहा है कि देश में निजता बची ही नहीं।

शीर्ष कोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा कि क्या इस तरह इस किसी के निजता के अधिकार का उल्लंघन किया जाना चाहिए? जस्टिस अरुण मिश्रा और जस्टिस इंदिरा बनर्जी की पीठ ने छत्तीसगढ़ सरकार हलफनामा देकर यह बताने को कहा कि किसके आदेश पर और क्यों फोन टैपिंग की गई?

पीठ ने पूछा कि किसी अधिकारी की बातचीत छिपकर सुनने की क्या जरूरत थी? मुकेश गुप्ता ने कोर्ट को बताया कि उनके और उनकी दो बेटियों के फोन टैप किए गए।

कोर्ट ने गुप्ता की पैरवी कर रहे वकील के खिलाफ दायर एफआईआर के मामले में भी सुनवाई को स्वीकार कर लिया। इस मामले में आदेश आने तक आईपीएस अधिकारी और उनके वकील के खिलाफ कार्रवाई पर रोक लगा दी है।

Ganpat Aryan

Ganpat Aryan

Multimedia Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!