अयोध्या मंदिर फैसला: ओवैसी ने कहा- खैरात में नहीं चाहिए 5 एकड़ जमीन

इस समाचार को शेयर करें

नई दिल्ली। अयोध्या मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी और मुसलमान पक्ष के वकील जफरयाब जिलानी ने असंतोष व्यक्त किया है। उन्होंने अपने एक बयान में कहा उन्हें खैरात में 5 एकड़ की जमीन नहीं चाहिए। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मंदिर पर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए कहा है कि राम मंदिर विवादित जमीन पर ही बनेगा। मुस्लिम पक्षकार को लेकर पांच जजों की पीठ ने कहा है कि उन्हें अलग से 5 एकड़ जमीन दी जाएगी। बता दें कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण 02.77 एकड़ जमीन पर बनेगी जो कि केंद्र सरकार के अधीन रहेगी।

ओवैसी ने क्या कहा?
उन्होंने कहा, “ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की तरह मेरा भी यह मानना है कि हम इससे संतुष्ट नहीं है। सुप्रीम कोर्ट सुप्रीम ज़रूर है पर अचूक नहीं है। ये जस्टिस जेएस वर्मा ने कहा था। जिन्होंने 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद को गिराया, आज उन्हीं को सुप्रीम कोर्ट कह रहा है कि ट्रस्ट बनाकर मंदिर का काम शुरू कीजिए। मेरा कहना ये है कि अगर मस्जिद नहीं गिराई गई होती तो कोर्ट क्या फ़ैसला देता?” ओवैसी ने शीर्ष अदालत की ओर से मुस्लिम पक्ष को पांच एकड़ ज़मीन दिए जाने के फैसले पर भी असहमति जताई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!