सारण के लाल रजत ने ISRO की परीक्षा में टॉपर बन बढ़ाया बिहार मान

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/lal-rajat-of-saran-boosts-isros-topper-in-bihar-exams/
Twitter

छपरा। सारण जिले के सिताब दियारा का रहने वाला रजत कुमार सिंह अब अंतरिक्ष की गहराईयों पर खोज करेगा।इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाइजेशन यानी इसरो के ऑल इंडिया टेस्ट के मैकेनिकल ट्रेड में रजत ने टॉप किया है।रजत फिलहाल बैंगलुरु में रह कर गेट की पढ़ाई कर रहा है लेकिन उसकी सफलता की खबर मिलते ही गांव के लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई है।परिवार व गांव के लोग शायद कभी सोचे नहीं होंगे कि उसे स्पेस विज्ञान समझने के साथ वहां काम करने का मौका भी मिलेगा।

सभी के खुशी के ठिकाने न थे
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरों) में प्रथम स्‍थान प्राप्‍त कर जेपी के गांव सिताबदियारा के लाला टोला के एक युवा के वैज्ञानिक बनने की सूचना रविवार को जैसे ही उसके गांव पहुंची, पूरा गांव झूम उठा। उसके घर पर भी बधाई देने वालों का तांता लग गया। मिठाईयां बंटी और पूरा सिताबदियारा अपने इस लाल पर इतराया।  जी हां सिताबदियारा के लाला टोला निवासी अरूण कुमार सिंह का पुत्र रजत कुमार इसरों में प्रथम स्‍थान प्राप्‍त कर, अब वैज्ञानिक बन चुका है।

दादा बोले-यह खबर मिली तो मेरे आंख में खुशी की आंसू गिर पड़े,मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि मेरा प्रपौत्र इतनी बड़ी कामयाबी हासिल करेगा

जेपी के हर आंदोलन में अपनी सहभागिता निभाने वाले प्रभुनाथ सिंह से एक सवाल कि अब इस खुशी के बाद आपको कैसा लग रहा है। उन्‍होंने बताया कि जब यह सूचना आई तो आंख से आंसू निकल गए। काफी देर तक यह यकीन ही नहीं हो रहा था, कि मेरा प्रपौत्र इतनी बड़ी कामयाबी हासिल किया है। बाद में मैने अपने बेटे से बात किया फिर शुरु किया मिष्‍ठान वितरण। वहीं चाचा मनोज सिंह, ने भी घर पर मिठाई बांट खुशी का इजहार किया। गांव के निवासी भोला सिंह, संजय पांडेय, राजन सिंह, मनोरंजन सिंह, दलजीत टोला निवासी मंतोष सिंह आदि ने भी रजत के घर पहुंच कर बधाईयां दी।

उसी स्कूल में प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण किया जहां  कभी जेपी पढ़े थे
सिताबदियारा में मौजूद उसके परिजनों में उसके दादा, चाचा, चाची आदि ने बताया कि वह गांव से ही अपनी पढ़ाई उसी विद्यालय से शुरू की, जिस विद्यालय में स्‍वयं लोक नायक जयप्रकाश नारायण भी प्राथमिक शिक्षा प्राप्‍त किए थे। वह विद्यालय है मिडिल स्‍कूल लाला टोला। आठवीं की पढ़ाई के बाद रजत अपने माता पिता के सांथ मुरादाबाद चला गया और वहीं से आगे की पढ़ाई शुरू की।उसके पिता अरूण कुमार सिंह और माता मीरा देवी ने टेलीफोन पर ही बताया कि उन्‍होंने काफी परिश्रम से रजत को पढ़ाया है। आज उनका सपना साकार हुआ। वहीं सिताबदियारा में रजत के दादा प्रभुनाथ सिंह जेपी के भी संगी है।

अब अपने देश की सेवा करना चाहता है
रजत सिताबदियारा के उसी विद्यालय का छात्र है जहां कभी जयप्रकाश नारायण ने अपनी शिक्षा हासिल की थी। रजत अब अपने देश की सेवा करना चाहते हैं। रजत ने अथक परिश्रम और दृढ़ निश्चय से न सिर्फ सफलता पायी दिलाई बल्कि पूरे देश में टॉपर भी बना दिया। इस सफलता के बाद रजत का परिवार खुशी से फूले नहीं समा रहा है।

पढ़ाई बस दिल में उतरनी चाहिए

जो भी छात्र इसरो की इस परीक्षा को क्वालिफाई करना चाहते हैं उन्हें बस यही ध्यान में रखने की जरूरत है कि जो भी पढ़ रहे हैं वह दिल में उतरना चाहिए। आपके नंबर चाहें 90 फीसदी हों या 70 फीसदी तकनीकी ज्ञान की मजबूती ज्यादा मायने रखती है।

 रजत कुमार सिंह, इसरो परीक्षा में ऑल इंडिया टॉपर

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/lal-rajat-of-saran-boosts-isros-topper-in-bihar-exams/
Twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

error: Content is protected !!